बिहार के चुनावी रण का दूसरा चरण राजग के लिए चुनौतीपूर्ण!

0
69

पिछले लोकसभा चुनाव 2014 से मौजूदा लोकसभा चुनाव 2019 में बिहार का राजनीतिक परिदृश्य बदला हुआ है। इस लोकसभा चुनाव के दूसरे चरण में राज्य की पांच लोकसभा सीटों के लिए गुरुवार यानी 18 अप्रैल को वोट डाले जाएंगे। इस चरण में न केवल राष्ट्रीय जनतािंत्रक गठबंधन (राजग) में फिर से शामिल जनता दल (युनाइटेड) की असली परीक्षा होनी है, बल्कि इन सीटों पर राजग की प्रतिष्ठा भी दांव पर है।

बिहार की जिन पांच सीटों -किशनगंज, कटिहार, पूर्णिया, बांका और भागलपुर- के लिए 18 अप्रैल को मतदान होना है, उन सभी सीटों पर पिछले चुनाव में नरेंद्र मोदी की आंधी के बाद भी राजग को हार का मुंह देखना पड़ा था। इस बार इन सभी पांच सीटों पर राजग की ओर से जद (यू) के प्रत्याशी चुनाव मैदान में हैं।

उल्लेखनीय है कि पिछले लोकसभा चुनाव में जद (यू) महागठबंधन में शामिल थी। जबकि इस बार जद (यू) राजग का हिस्सा है। पिछले चुनाव में जद (यू) ने पूर्णिया सीट पर कब्जा जमाया था, जबकि भागलपुर और बांका पर राष्ट्रीय जनता दल (राजद) को जीत मिली थी, तथा कांग्रेस ने किशनगंज और राकांपा ने कटिहार सीट पर कब्जा जमाया था।

कटिहार के मौजूदा सांसद तारिक अनवर इस चुनाव में एकबार फिर मैदान में हैं, लेकिन इस वह राकांपा नहीं, बल्कि कांग्रेस के उम्मीदवार हैं। अनवर कुछ महीने पहले राकांपा छोड़ कांग्रेस में शामिल हो गए थे। इसके अलावा पूर्णिया और किशनगंज सीटों पर भी कांग्रेस के प्रत्याशी राजग को टक्कर दे रहे हैं।

बाकी दो सीटों भागलपुर और बांका राजद के हिस्से गई है, और राजद ने भागलपुर से मौजूदा सांसद बुलो मंडल को और बांका से जयप्रकाश नारायण यादव को मैदान में उतारा है।

पूर्णिया निवासी पत्रकार गिरिन्द्र नाथ झा कहते हैं कि कोसी और सीमांचल की इन पांच लोकसभा सीटों पर वोटों का रुझान आने वाले पांच चरणों के मतदान के रुझान पर भी असर डालेगा।

उन्होंने कहा, “ये पांच लोकसभा सीटें राजग और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के आधार और जनाधार को भी सामने लाएंगी।”

मुस्लिम बहुल किशनगंज से कांग्रेस ने इस चुनाव में मोहम्मद जावेद को मैदान में उतारा है, जबकि जद (यू) ने सैयद महमूद अशरफ पर दांव लगाया है। 70 प्रतिशत मुस्लिम मतदाताओं वाले इस क्षेत्र में मुख्य मुकाबला राजग और महागठबंधन के बीच माना जा रहा है, परंतु असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी मजलिसे इत्तेहादुल मुस्लमीन (एमआईएम) ने अख्तरुल ईमान को अपना उम्मीदवार बनाकर चुनाव को दिलचस्प बना दिया है।

बांका से राजद के जयप्रकाश नारायण और जद (यू) के गिरिधारी यादव के बीच सीधा मुकाबला माना जा रहा है, परंतु यहां भाजपा से टिकट नहीं मिलने से नाराज पुतुल कुमारी ने चुनाव मैदान में उतरकर मुकाबले को त्रिकोणीय बना दिया है।

भागलपुर में भी राजद के मौजूदा सांसद बुलो मंडल और जद (यू) के उम्मीदवार अजय मंडल आमने-सामने हैं। जबकि कटिहार में जद (यू) के दुलालचंद गोस्वामी का मुकाबला पांच बार सांसद रह चुके कांग्रेस के तारिक अनवर से है। तारिक अनवर कटिहार के मौजूदा सांसद हैं और वह राकांपा छोड़ कांग्रेस में आए हैं।

पूर्णिया में भाजपा को छोड़कर कांग्रेस में आए उदय सिंह का मुकाबला जद (यू) के संतोष कुशवाहा से है।

पूर्णिया के गोरेलाल मेहता कॉलेज, बनमनखी के प्रोफेसर और सीमांचल की राजनीति के जानकार चंद्रेश्वर कुमार मिश्र बताते हैं कि इस चरण में गठबंधन में शामिल दलों के ऊपर वोट शिफ्टिंग की जिम्मेदारी है।

उन्होंने कहा, “राजग में शामिल भाजपा और लोजपा अगर अपने वोट बैंक को जद (यू) प्रत्याशियों के लिए शिफ्ट कराने में सफल रहे तो इन सभी सीटों पर उलटफेर से इंकार नहीं किया जा सकता है।”

मिश्र हालांकि यह भी मानते हैं कि राजग के लिए दूसरे चरण का मतदान चुनौतीपूर्ण है।

बहरहाल, राजग और विपक्षी दलों के महागठबंधन के प्रत्याशियों से लेकर स्टार प्रचारक मतदाताओं को अपनी ओर आकर्षित करने के लिए जी-तोड़ मेहनत कर रहे हैं। स्टार प्रचारक लगातार इन क्षेत्रों में मतदाताओं को रिझाने में जुटे हुए हैं।

बिहार में लोकसभा चुनाव के सभी सात चरणों में मतदान होना है। पहले चरण में बिहार की चार सीटों के लिए 11 अप्रैल को मतदान संपन्न हो चुका है।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस


SHARE
Previous articleइस शादीशुदा जोड़े की तलाक की वजह जानकर आपके होश उड़ जायेंगे …
Next articleकपिल ने कलंक टीम से पूछे सब्जियों और पेट्रोल के दाम, तो स्टार्स ने ऐसे दिया जबाव
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here