भारतीय मूल के वैज्ञानिकों ने गंभीर कोरोना के इलाज का नया तरीका ढूंढ़ा

0

अमेरिका में भारतीय मूल के शोधकर्ताओं की एक टीम ने पाया है कि जब एक इंटरल्यूकिन-6 (आईएल 6 आरआई) अवरोधक, सरीलूमैब या टोसिलिजुमब को प्रभाव में लाया जाता है, तो गंभीर कोविड-19 लक्षणों का अनुभव करने वाले रोगियों में सुधार देखने को मिला है। इसका उपयोग गठिया रोग और अन्य कई सूजन संबंधी बीमारियों के लिए किया जाता है। यह उपचार तब अधिक प्रभावी देखा गया है, जब इसे बीमारी के शुरुआती चरण में ही अपनाया जाता है।

अंतर्राष्ट्रीय संक्रामक रोगों की पत्रिका (इंटरनेशनल जर्नल ऑफ इंफेक्शियस डिजिज) में प्रकाशित परिणामों से पता चला कि इंटरल्यूकिन-6 अवरोधक रेमेडेसवीर और डेक्सामेथासोन सहित अन्य विकल्पों की तुलना में अधिक प्रभावी उपचार पद्धति प्रतीत होती है, जो वर्तमान में महामारी की जांच के लिए अनुशंसित है और इसमें इसका उपयोग किया जा रहा है।

अमेरिका में बोस्टन विश्वविद्यालय के शोधकर्ता मनीष सागर ने कहा, ऐसे समय में जब कोविड-19 महामारी के बीच उपचार के लिए तत्काल परीक्षण किया जा रहा है, हमारे अध्ययन के परिणाम इस बीमारी से संक्रमित रोगियों के बेहतर उपचार के लिए समाधान खोजने की दिशा में कुछ आशा प्रदान करते हैं।

अध्ययन के अनुसार, आईएल-6 स्तर गंभीर तीव्र श्वसन सिंड्रोम या कोविड-19 संक्रमण वाले रोगियों के लिए फायदेमंद हो सकता है।

यह अध्ययन 255 कोविड-19 रोगियों पर किया गया, जिनमें दूसरे चरण के 149 रोगियों और तीसरे चरण के 106 रोगियों का आईएल 6 आरआई के साथ इलाज किया गया।

एक बार एक उपयुक्त रोगी की पहचान हो जाने के बाद उन्हें आईएल 6 आरआई (सरीलूमैब या टोसिलिजुमब) दिया गया। यह प्रक्रिया पुनरावृत्त दिशानिर्देशों के आधार पर की गई।

आईएल 6 आरआई शुरू में गंभीर रूप से बीमार रोगियों के लिए रिजर्व था, लेकिन समीक्षा के बाद उपचार को कम ऑक्सीजन आवश्यकताओं वाले रोगियों के लिए भी शुरू किया गया।

अध्ययन के सैंपलिंग-विथ-रिप्लेसमेंट विश्लेषण में पाया गया कि आईएल 6 आरआई पाने वाले रोगियों में रेमेडेसवीर और डेक्सामेथासोन परीक्षणों की तुलना में मृत्यु दर कम रही।

बोस्टन मेडिकल सेंटर के 105 रोगियों में 22.9 प्रतिशत मृत्यु दर देखने को मिली, जिन्हें आईसीयू देखभाल की जरूरत है। यह आईसीयू अध्ययनों में पहले से प्रकाशित 45-50 प्रतिशत मृत्यु दर से काफी कम है।

अध्ययनकर्ता प्रणय सिन्हा ने कहा कि आईएल 6 आरआई के उपयोग का सबसे बड़ा लाभ उन रोगियों को देखा गया, जिन्होंने पहले चरण (फस्र्ट स्टेज) में ही इलाज कराया।

सिन्हा ने कहा, हमें उम्मीद है कि ये निष्कर्ष चिकित्सकों को मार्गदर्शन करने में मदद कर सकते हैं, क्योंकि हम मृत्यु दर को कम करने, अस्पताल में भर्ती होने की अवधि कम करने और अस्पताल में भर्ती होने वाले मरीजों को जीवित रखने के लिए समाधान तलाश रहे हैं।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous article‘मुलान’ सिनेमाघरों के बजाय ओटीटी पर हो रही रिलीज
Next articleअंकज्योतिष 2020: यहां पढ़ें 06 अगस्त का लकी नंबर और शुभ रंग
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here