भारतीय सीमा में प्रवेश की कोशिश के दौरान घोटाला आरोपी बांग्लादेशी गिरफ्तार

0

बांग्लादेश में फर्जी कोविड रिपोर्ट मामले के मुख्य आरोपी और धनशोधन व धोखाधड़ी वाले फंड सिंडिकेट को चलाने में वांछित रीजेंट ग्रुप के चेयरमैन मोहम्मद शाहेद को नौ दिनों की तलाश के बाद गिरफ्तार कर लिया गया है। वह इच्छामती नदी के माध्यम से भारत भागने की कोशिश कर रहा था और अपनी पहचान छिपाने के लिए उसने बुर्का पहन रखा था।

शाहेद को कोमारपुर गांव में लबंगबोती नदी के किनारे से एक विशेष अभियान में गिरफ्तार किया गया। उसके पास से अवैध असलहा मिला है।

उसकी गिरफ्तारी के साथ ही रीजेंट अस्पताल धोखाधड़ी मामले में आरोपी 18 लोगों में से 11 को गिरफ्तार कर लिया गया है।

शाहेद पर सरकार के साथ समझौते का उल्लंघन करते हुए परीक्षण और उपचार के लिए फर्जी कोविड-19 प्रमाणपत्र जारी करने और कोरोना वायरस रोगियों से बड़ी मात्रा में अवैध रूप से धन लेने का आरोप है। रैपिड एक्शन बटालियन (आरएबी) की एक मोबाइल अदालत ने सात जुलाई को रीजेंट ग्रुप के प्रधान कार्यालय और ढाका में रीजेंट अस्पताल की उत्तरा और मीरपुर शाखाओं को बंद कर दिया था।

उल्लेखनीय है कि बांग्लादेशी प्रवासियों और पर्यटकों की नकली कोविड परीक्षण रिपोर्टों के कारण इटली और जापान ने बांग्लादेश की उड़ानों को स्थगित कर दिया था।

अब तक, पीड़ितों और पुलिस द्वारा शाहेद के खिलाफ ढाका, चटगांव, बारिसाल और खुलना में 59 मामले दर्ज किए गए हैं। ज्यादातर मामले पहले दायर किए गए थे, लेकिन शाहेद किसी तरह जमानत पाने में कामयाब रहा।

शाहेद को बुधवार सुबह सतखीरा जिले में भारत-बांग्लादेश सीमा क्षेत्र से गिरफ्तार किया गया और हेलीकॉप्टर द्वारा ढाका रवाना किया गया। आरएबी के कानूनी व मीडिया विंग के निदेशक लेफ्टिनेंट कर्नल आशिक बिलाह ने कहा कि वह सुबह नौ बजे राजधानी में उतरा।

रीजेंट हॉस्पिटल के अधिकारियों ने मरीजों से कथित तौर पर प्रत्येक कोविड परीक्षण के लिए 3,500 बांग्लादेशी टका लिया, जिसका अर्थ है कि मरीजों का परीक्षण और मुफ्त में इलाज प्रदान करने के लिए सरकार के साथ एक समझौता होने के बावजूद उन्होंने लोगों से 3.5 करोड़ से अधिक टका हड़प लिया।

आरएबी की खुफिया शाखा के निदेशक लेफ्टिनेंट कर्नल सरवर बिन कासेम ने कहा, “शाहेद इच्छामती नदी के रास्ते भारत भागना चाहता था। वह अपनी दाढ़ी और बाल काटने के बाद बुर्का पहनकर एक नाव पर चढ़ गया। आरएबी ने उसे लोगों की पिटाई से बचाया। हम उसे ढाका लाने में सफल रहे।”

सतखीरा में प्रत्यक्षदर्शियों ने आईएएनएस को बताया कि जब वे सुबह मस्जिद से निकल रहे थे, तो उन्होंने आरएबी के एक काफिले को लबंगबोती नदी पर पुल पार करते देखा। उसके बाद उन्होंने आरएबी टीम के एक सदस्य को बुर्का पहने हुए शाहेद को गिरफ्तार करते देखा। गुस्साए स्थानीय लोगों ने उसकी पिटाई शुरू कर दी। आरएबी टीम ने उसे लोगों से बचाया।

शाहेद ने सत्तारूढ़ अवामी लीग में शामिल होने के बाद मंत्रियों और प्रभावशाली लोगों से संपर्क का इस्तेमाल किया। उसने सोशल मीडिया पर प्रधानमंत्री शेख हसीना और राष्ट्रपति अब्दुल हमीद के साथ अपनी तस्वीरें भी पोस्ट कीं। उसे तस्वीरों में भारत के पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी और भाजपा नेता लालकृष्ण आडवाणी के साथ भी देखा गया था।

पुलिस ने कहा कि शाहेद ने 2016-2017 में लोगों को धोखा देने और उनसे पैसे हड़पने की शुरुआत की। अवैध बंदूकधारियों के बल पर वह पैसे वसूलता और जो लोग पैसा मांगते उन्हें यह कह कर धमकाता कि ‘जानते हो, मैं प्रधानमंत्री शेख हसीना को अपनी जेब में रखता हूं।’

प्रधानमंत्री शेख हसीना ने हाल ही में संसद में कहा कि शाहेद के धोखाधड़ी सिंडिकेट की जांच सरकार की खुफिया एजेंसियों द्वारा की गई है और इस सिंडिकेट से जुड़े दोषियों को दंडित करने के लिए कदम उठाए गए हैं।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleEng vs WI: दूसरे टेस्ट के लिए जो रूट की हुई वापसी, इस खिलाड़ी का बाहर होना तय
Next articleउत्तर प्रदेश : मंदिर सेवादार की पिटाई से मौत, 1 गिरफ्तार
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here