एसबीआई का वित्त वर्ष 2021 में शुद्ध लाभ 81 प्रतिशत बढ़ा

0

देश के सबसे बड़े ऋणदाता भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) ने शुक्रवार को वित्त वर्ष 2021 की प्रथम तिमाही में अपने स्टैंडअलोन शुद्ध लाभ में 81 प्रतिशत वृद्धि दर्ज की है।

बैंक का शुद्ध लाभ पिछले वर्ष की समान अवधि में दर्ज 2,312 करोड़ रुपये के शुद्ध लाभ के मुकाबले 4,189 करोड़ रुपये शुद्ध लाभ दर्ज किया।

बैंक ने एक बयान में कहा, “संचालन मुनाफा वित्त वर्ष 2021 की पहली तिमाही में वर्ष दर वर्ष आधार पर 36.35 प्रतिशत बढ़कर 18,061 करोड़ रुपये हो गया, जो वित्त वर्ष 2020 की पहली तिमाही में 13,246 करोड़ रुपये था।”

बयान के अनुसार, “बैंक की ब्याज से शुद्ध आय में वर्ष दर वर्ष आधार पर वित्त वर्ष 2021 की पहली तिमाही में 16.14 प्रतिशत की वृद्धि हुई।”

बैंक का शुद्ध एनपीए अनुपात 1.86 प्रतिशत रहा, जो वर्ष दर वर्ष आधार पर 121 आधार अंक और तिमाही दर तिमाही आधार पर 37 आधार अंक घटा है।

बयान में कहा गया है, “सकल एनपीए अनुपात 5.44 प्रतिशत है, जो वर्ष दर वर्ष आधार पर 209 आधार अंक और तिमाही दर तिमाही आधार पर 71 आधार अंक कम हुआ है।”

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleईद के मौके पर इस तरह से नज़र आई टीवी की यह खूबसूरत एक्ट्रेस
Next articleसैमसंग गैलेक्सी M31s और गैलेक्सी M31 में फीचर्स और कीमत के आधार पर अंतर
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here