भारत ने बनाए कई विलुप्त प्रजातियों के नमूने, ताकि आने वाले पीढ़ी इनको जान सके

0
43

जयपुर। भारत सरकार हमेशा से ही सरकारी स्कूलों के विकास के लिए कई तरह के प्रयास करती आ रही है। सरकार इन स्कूलों बेहतर बनाने के लिए नई—नई योजनाएं निकालती रहती है। यह इसलिए किया जा रहा है ताकि बच्चा गरीब हो या अमीर उसमें छुपे टेलेंट का तराशा जा सके।

और इस टैलेंट को तराशनेे के लिए सरकार नये—नये कार्य कर रही है। इसी को ध्यान में रखते हुए सरकार ने एक ऐसी जगह बनाई है जहां पर बच्चे वा​स्तविक माहोल में विज्ञान​ की जानकारी ले सके। इसके तहत शिक्षा विभाग ने पटना में श्रीकृष्ण विज्ञान केन्द्र बनाया है।

यहां पर हजारों साल पहले विलुप्त हो चुके डायनासोर की विभिन्न प्र​जातियों के नमून रखे गये हैं। जो देखने में बिलकुल वा​स्तविक प्रतित होते हैं। इन नमूनों के आधार पर बच्चें डायनासोर के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

शिक्षा विभाग के अध्यक्ष बताते है कि इस जगह को बनाने के मकसद यही है कि इस एक्टिवीटी के जरिए ​स्कूली बच्चों में शिक्षा और तकनीकी से संबंंधित समझ का विकास हो सके। इन नमूनों के अलावा यहां पर स्पेस थिएटर, 3डी थिएटर,विज्ञान प्रदर्शनी,एसओएस थिएटर, विज्ञान वाटिका, दीर्घा के साथ—साथ मानव आंख आदि की कलाकृतियों को आसानी से समझने के लिए बनाये गये हैं।

इन आकृतियों की अगर अलग—अलग बात की जाये, तो स्पेश थिएटर — यह तारामंडल एवं खगोलियों घटनाओं के बारे में अच्छे ढंग से बताया गया है। 3डी थिएटर— इसके माध्यम विज्ञान पर आधारित फिल्में देखी जा सकती है। विज्ञान प्रदर्शनी — इसमें मनोरंजक तरीके से कहानी कहते हुए विज्ञान के मूलभूत सिद्धांतों का समझाया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here