सलमान खान को 5 साल जेल, जमानत पर शुक्रवार को सुनवाई (राउंडअप)

0
150

बॉलीवुड अभिनेता सलमान खान को वर्ष 1998 में दो दुर्लभ काले हिरणों के शिकार मामले में गुरुवार को यहां की एक अदालत ने पांच साल कैद की सजा सुनाई, जबकि चार अन्य सह आरोपियों को सभी आरोपों से बरी कर दिया। 20 साल से कानूनी लड़ाई लड़ रहे राजस्थान के विश्नोई समाज ने ‘दबंग’ को सलाखों के पीछे पहुंचाकर ही दम लिया। कानून पर देश का भरोसा बढ़ा। मुख्य न्यायाधीश देव कुमार खत्री ने सजा पढ़ते समय सलमान खान (52) को देश के वन्य जीव संरक्षण अधिनियम के अंतर्गत ‘आदतन अपराधी’ की संज्ञा दी।

इस दौरान अदालत कक्ष में सलमान की बहनें- अलवीरा और अर्पिता भी मौजूद थीं। अभिनेता को कड़ी सुरक्षा के बीच जोधपुर केंद्रीय कारावास ले जाया गया, जहां वह बैरक संख्या एक में कम से कम एक रात गुजारेंगे।

दुष्कर्म के दोषी आसाराम बापू, भंवरी देवी हत्याकांड का आरोपी मलखान सिंह विश्नोई और एक मुस्लिम की हत्या कर उसका वीडियो बनाने का दोषी शंभूलाल रैगर भी इसी जेल में है।

अदालत ने सलमान पर 10,000 रुपये का जुर्माना भी लगाया है।

सलमान ने जमानत की मांग की, लेकिन जमानत अर्जी पर सुनवाई शुक्रवार की सुबह जोधपुर सत्र न्यायालय में होगी। सलमान को अगर जमानत नहीं मिली, तो इसके बाद सप्ताहांत की छुट्टियों के कारण उन्हें जेल में कम से कम तीन दिन और जमानत का इंतजार करना होगा।

अभियोजन पक्ष ने आरोप लगाया कि 1998 में जोधपुर में फिल्म ‘हम साथ साथ हैं’ की शूटिंग के दौरान सलमान और बॉलीवुड के अन्य स्टार सैफ अली खान, तब्बू, सोनाली बेंद्रे और नीलम 1-2 अक्टूबर की मध्यरात्रि में कंकणी गांव के निकट एक संरक्षित वन में शिकार के लिए गए थे।

मामले में अन्य चारों कलाकारों और एक स्थानीय व्यक्ति को बरी कर दिया गया।

सलमान खान को चौथी बार जोधपुर जेल भेजा गया है। इससे पहले सलमान इस जेल में चिंकारा के अवैध शिकार के मामलों में 1998, 2006 और 2007 में 18 दिन बिता चुके हैं। वह हर बार जमानत पर रिहा हुए थे।

दोषी करार दिए जाने के तुरंत बाद काले हिरण को देव तुल्य मानने वाले विश्नोई समुदाय के लोग अदालत के बाहर ही जश्न मनाने लगे।

हिरण के शिकार के बाद विश्नोई समुदाय ने अभिनेता-अभिनेत्रियों के खिलाफ मामला दर्ज कराया था। उनके अनुसार, उन्होंने एक अक्टूबर 1998 की मध्यरात्रि में गोली चलने की आवाज सुनी थी।

सलमान पिछले 20 साल में अन्य मामलों में भी कानूनी लड़ाई लड़ते आ रहे हैं। शराब पीकर गाड़ी चलाते हुए फुटपाथ पर लेटे एक व्यक्ति को टक्कर मारकर उसकी गैर इरादतन हत्या के मामले में सलमान पांच साल सजा के ऐलान के बाद मुंबई उच्च न्यायालय से बरी हो चुके हैं।

लाइसेंस की वैधता समाप्त होने के बावजूद हथियार रखने के मामले में भी वे अदालत द्वारा बरी हो चुके हैं।

अन्य मामलों में भवड और मथानिया में दो संरक्षित जीव चिंकारा के शिकार मामले में राजस्थान उच्च न्यायालय ने उन्हें 2016 में बरी कर दिया था।

बॉलीवुड के सूत्रों के अनुसार लोकप्रिय और बॉक्स ऑफिस के ‘सुल्तान’ सलमान होम प्रोडक्शन की कुछ फिल्मों में सह निर्माण या अभिनय कर रहे हैं।

कृष्णामूर्ति फिल्म्स के के.रामजी ने कहा, “इस दौरान सलमान लगभग आधा दर्जन उच्च बजट की फिल्में जैसे लगभग पूरी हो चुकी ‘रेस 3’, ‘दबंग 3’, ‘पार्टनर 2’, ‘किक 2’, ‘भारत’, ‘नो एंट्री में एंट्री’, ‘शेर खान’ और ‘लवरात्रि’ अधर में लटकी हैं।”

सलमान को सजा सुनाए जाने से उनके चाहने वाले और बॉलीवुड दुखी है।

अभिनेत्री और नेता जया बच्चन ने कहा, “मुझे दुख हो रहा है। फिल्म उद्योग ने उन पर बहुत रुपये लगा रखे हैं, उन्हें बहुत नुकसान होगा। 20 साल बाद उन्होंने सलमान को दोषी पाया। लेकिन कानून ने अपना काम किया है। क्या कहा जा सकता है?”

फिल्मकार सुभाष घई ने कहा कि वे सलमान को सजा की खबर सुनकर स्तब्ध हैं। उन्होंने कहा, “सलमान को उनके अच्छे कामों के कारण बॉलीवुड में और जनता से सबसे ज्यादा प्यार मिला है।”

फिल्म ‘हम साथ साथ हैं’ में सलमान के पिता का किरदार निभाने वाले अभिनेता आलोक नाथ ने एक टीवी चैनल को बताया कि दो दशक बाद ऐसा निर्णय आना दुखद है।

अभिनेता अर्जुन रामपाल ने कहा कि वे असहाय महसूस कर रहे हैं। उनकी संवेदनाएं सलमान और उनके परिवार के साथ हैं।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here