अमेठी की मालविका स्टील में सेल का निवेश बेकार

0

देश में सार्वजनिक क्षेत्र की सबसे बड़ी स्टील विनिर्माता कंपनी स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड (सेल) पूर्व में कांग्रेस की गढ़ रही अमेठी स्थित मालविका स्टील के अधिग्रहण में किया गया अपना सारा निवेश गंवा चुकी है।

संसद में पेश भारत के नियंत्रक एवं महालेखापरीक्षक (कैग) की हालिया रिपोर्ट में बताया गया है कि सेल द्वारा उत्तर प्रदेश की कंपनी मालविका स्टील का अधिग्रहण बेकार निवेश साबित हुआ है। बीमार कंपनी में जान फूंकने के लिए पीएसयू द्वारा किया गया 366 करोड़ रुपये का पूरा निवेश बेकार हो गया है।

संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन-2 के कार्यकाल के दौरान जब इस कंपनी का अधिग्रहण हुआ था उस समय इस पर कई लोगों ने सवाल उठाया था और मालविका स्टील में सुधार लाने के लिए सेल का इस्तेमाल करने को राजनीतिक फैसला कहा गया जोकि संसदीय क्षेत्र के लोगों को खुश करने के लिए लिया गया था। इसे रोजगार के अवसर पैदा करने और शहर का औद्योगिकीकरण करने की एक बड़ी कवायद के रूप में बताया गया था।

अमेठी काफी समय से कांग्रेस का गढ़ था जहां से संजय गांधी, राजीव गांधी, सोनिया गांधी और राहुल गांधी के रूप में नेहरू-गांधी परिवार के चार सांसद जीतकर आए थे। हालांकि भारतीय जनता पार्टी की स्मृति ईरानी ने कांग्रेस के इस गढ़ को तोड़ते हुए 2019 के आम चुनाव में जीत हासिल की।

सूत्रों ने बताया कि सेल मालविका स्टील खरीदना नहीं चाहती थी क्योंकि लौह-अयस्क और कोयला का स्रोत यहां से दूर था और स्टील निर्माण की सुविधा काफी खर्चीली थी। हालांकि राजनीतिक दबाव में निवेश को उचित ठहराते हुए यह फैसला लिया गया।

कैग ने कहा कि सेल ने 44.35 करोड़ रुपये में संयंत्र व मशीनरी खरीदी लेकिन वे सभी बेकार हो गई।

मालविका स्टील के अधिग्रहण के बाद से सेल ने 45.09 करोड़ रुपये खर्च किया है जिसमें 30.42 करोड़ रुपये सुरक्षा पर, 8.79 करोड़ रुपये कर्मचारियों पर और 5.88 करोड़ रुपये अन्य खर्च के रूप में शामिल हैं। रोचक तथ्य यह है कि जमीन का अब तक सेल के नाम हस्तांतरण नहीं हुआ है।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleटोयटा वाहनों को लेकर बड़ी खबर: वाहन में बिक्री में आई 22 फिसदी की गिरावट
Next articleआलोचनाओं पर भड़के पर पाकिस्तानी कोच मिस्बाह उल हक, दिया बड़ा बयान
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here