रूप चतुर्दशी: आज इन उपायों को करने से व्यक्ति को नहीं झेलनी पड़ती हैं नर्क की यातनाएं

0
465

जयपुर। आज  कार्तिक मास की कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी हैं इसदिन को रूप चौदस के नाम से जाना जाता है। रुप चौदस के दिन विधि-विधान से पूजा करने से व्यक्ति के सारे पाप धुल जाते हैं व व्यक्ति को मृत्यु के बाद स्वर्ग में स्थान मिलता है। आज रुप चतुर्दशी के दिन अगर इन उपायों को किया जाएं तो विशेष लाभ मिलता है।

दीपावली का त्यौहार कल धनतेरस से शुरु हो गया है, आज रुप चौदश हैं इसे छोटी दीपावली भी कहा जाता है। इस दिपावली के त्यौहार को खुशियों का त्यौहार रोशनी का त्यौहार माना जाता है। यह त्यौहार अंधकार को दूर करने व रोशनी को फैलाने का काम करते है।

  • रुप चौदस में सुबह तेल लगाकर अपामार्ग की पत्तियां पानी में डालकर स्नान करें ऐसा करने से नरक से मुक्ति मिलती है। आज शाम के समय घर में दीपक जलाएं व दीपदान करें।
  • रुप चौदस के दिन पूरे घर की सफाई करें, घर को सजाएं संवारे।

  • रुप चौदस के दिन अपने रुप को निखारने के लिए उबटन वगैरा लगाएं ऐसा करने से सौंदर्य निखरता है।
  • पुर चौदस की रात तिल के तेल के 14 दीपक जलाएं, ऐसा करने से जीवन के सारे पापों का नाश होता है।
  • रुप चौदस के दिन नए पीले रंग के कपडें पहन कर यम की पूजा की जाती है। ऐसा करने से मृत्यु के बाद व्यक्ति को नर्क की यातनाओं नहीं सहनी पड़ती और अकाल मृत्यु के भय से मुक्ती मिलती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here