बच्चों में वायरल इंफेक्शन का खतरा अधिक, आप इस प्रकार करें बच्चों की देखभाल

0

जयपुर।आज हमारे देश में कोरोना वायरस का संक्रमण लगातार बढ़ता जा रहा है।हमारे देश में लगभग 4 हजार से अधिक लोग कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए है और 100 अधिक लोगो की मौत हो चुकी है।कोरोना वायरस का संक्रमण कमजोर इम्यूनिटी वाले लोगो में अधिक होता है।ऐसे में छोटे बच्चों और बुजुर्गो में कोरोना वायरस का संक्रमण का खतरा अधिक बना हुआ है।वहीं इस समय के बदलते मौसम के कारण भी बच्चों में वायरल इंफेक्शन का खतरा अधिक रहता है।

क्योंकि बच्चों का इम्यूनिटी सिस्टम काफी कमजोर होता है ऐसे में बैक्टीरिया उनके कमजोर शरीर को आसानी से संक्रमित कर बीमार बना देते है।वायरल इंफेक्शन के कारण बच्चों में सर्दी—जुकाम, खांसी, बुखार, गले में खराश- नाक से पानी गिरना, सीने और पेट में में दर्द जैसे लक्षण दिखाई देते है।

इसलिए बच्चों को कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाने के लिए किसी भी प्रकार के बुखार की शिकायत होने पर डॉक्टर से जांच करवाना बेहद आवश्यक है।अगर घर में किसी एक बच्चे को ऐसा संक्रमण है तो उसे घर के दूसरे बच्चों से दूर रखें।क्योंकि वायरल इंफेक्शन संक्रमण के कारण अधिक फैलता है।

बच्चों की इम्यूनिटी क्षमता को बढ़ाने के लिए हरी पत्तेदार सब्जियों को बच्चों की डाइट में शामिल करें।गले में खराश होने पर बच्चे को गुनगुना पानी पीने पिलांए और गुनगने पानी में नमक डालकर गरारें करने से गले की खर्राश कम होती है।

बच्चों की इम्यूनिटी को बढ़ाने के लिए विटामिन—सी युक्त फलों का अधिक सेवन करवाएं। बच्चों की इम्यूनिटी को बढ़ाने के लिए प्रतिदिन पर्याप्त नींद का लेना भी आवश्यक होता है, इसलिए बच्चों का सोने का नियमित समय पर तय करना आवश्यक होता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here