ईडी को पनामा पेपर में शामिल कर चोरों के नामों का खुलासा न करने का अधिकार: सीआईसी

0
38

जयपुर।   पनामा पेपर से जुड़ा मामला और सभी को याद होगा जिसमें दुनिया भर के कई ऐसे लोगों के नाम शामिल हुए थे जिन्होंने गलत तरीकों से पैसा बनाने की कोशिश करी थी अब इस मामले को लेकर केंद्रीय सूचना आयोग ने कहा है कि प्रवर्तन निदेशालय पनामा पेपर में शामिल कथित कर चोरों के नामों का खुलासा करने से बच सकता है.

एचडी याचिका के जवाब में आयोग द्वारा बताया गया है कि आपको बता दें कि एक आरटीआई क्या आवेदन में एजेंसी द्वारा कोई संतोषजनक जवाब नहीं दिया गया है याचिकाकर्ता दुर्गा प्रसाद चौधरी ने साल 2017 में तीन बिंदुओं पर जानकारी मांगी थी पहली तो पनामा पेपर्स जिन लोगों के नाम हैं. उनकी सूची ली पर उठाए गए कदम और जांच में विलंब के लिए जिम्मेदार लोगों की जानकारी को लेकर यह सभी याचिकाओं पर और इस याचिका में इन सभी बातों पर जानकारी मांगी थी लेकिन इस बात को लेकर अभी तक कोई भी एजेंसी द्वारा संतोषजनक जवाब नहीं दिया गया है.

इस मामले को लेकर मीडिया में जानकारी के अनुसार एजेंसी ने धारा 24 के एक तहत जानकारी देने से छूट का दावा किया था और अनुरोध को खारिज भी कर दिया था वही सुनवाई में चौधरी ने कहा है कि उन्हें जानकारी मुहैया नहीं करवाई गई है जबकि यह उच्च स्तर पर भ्रष्टाचार से जुड़ा हुआ एक गंभीर मामला है.

 

वहीं इसके अलावा प्रवर्तन निदेशालय ने दोहराया था कि उसे कानून के तहत छूट प्राप्त है और इसके साथ ही तर्क दिया था कि मामला न्यायालय में विचाराधीन है और इसके लिए फिलहाल जानकारी साझा नहीं करी जा सकती है.

वहीं एक आरटीआई कानून की धारा 24 के कुछ खुफिया तथा सुरक्षा संगठनों को जानकारी साझा करने से भी छूट देती है हालांकि यदि मांगी गई सूचना भ्रष्टाचार और मानव अधिकार के उल्लंघन से जुड़ी है तो यह नियम लागू नहीं होता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here