BSNL में फिर छटनी ? 20,000 संविदा कर्मचारियों की नौकरी खत्म ?

0

बीएसएनएल कर्मचारी संघ के अनुसार राज्य के स्वामित्व वाले बीएसएनएल ने अपनी सभी इकाइयों को कार्यों पर खर्च को कम करने के लिए दिशानिर्देश को जारी किया है, जिसके परिणामस्वरूप ठेकेदारों के माध्यम से टेलीकॉम फर्म से जुड़े लगभग 20,000 श्रमिकों की छंटनी हो सकती है । यूनियन के द्वारा यह भी ने दावा किया गया है कि 30,000 श्रमिकों को कंपनी की छंटनी प्रक्रिया के तहत पहले ही हटा दिया गया था और कहा गया था कि सभी श्रमिक एक वर्ष से अधिक समय तक अवैतनिक ही रहेंगे ।

BSNL to retrench another 20,000 contract workers: Employees' union - The  Financial Expressबीएसएनएल के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक पीके पुरवार के द्वार एक पत्र में यह कहा गया है कि स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति योजना ( वीआरएस ) के बाद से कंपनी की वित्तीय स्थिति खराब हो गई है । यूनियन ने यह भी कहा कि पिछले 14 महीनों से मजदूरी का भुगतान नहीं हुआ है । जिसके कारण वीआरएस और 13 संविदा कर्मियों ने कथित रूप से आत्महत्या करने के बाद भी बीएसएनएल नियत तारीख को कर्मचारियों के वेतन का भुगतान करने में असमर्थ माना है।

BSNL To Retrench Another 20,000 Contract Workers, Says Employees' Unionबीएसएनएल ने 1 सितंबर को अपने मानव संसाधन निदेशक की अनुमति से इसमें आदेश को जारी किया गया है, जिसमें सभी मुख्य महाप्रबंधकों से अनुबंध में कामों पर खर्च को कम करने के लिए तत्काल कदम उठाने और ठेकेदारों के माध्यम से मजदूरों को कम करने के लिए कहा गया है। जिसमें आगे यह आदेश में कहा गया है कि सीएमडी ने इच्छा यह व्यक्त की है की अधिकांश सर्कल में क्लस्टर आधारित दृष्टिकोण के साथ मजदूरों और अन्य संविदा कर्मचारियों कि सुरक्षा आदि का ध्यान देना होगा।

MP labour law changes: Relaxed licence norms for contract workers |  Business Standard Newsसीएमडी ने अपनी इच्छा व्यक्त करते हुए कहा है कि बीएसएनएल के प्रत्येक सर्कल को “तुरंत अनुबंध प्रयोगशालाओं के साथ तैयार किया जाना है । जिसमें की बीएसएनएल इम्प्लाइज यूनियन के महासचिव पी. अभिमन्यु ने बताया कि 30,000 मजदूरों को घर भेज दिया गया है और 20,000 से अधिक प्रभावित होने वाला है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here