अमित शाह की रैली में शरणार्थियों का छलका दर्द

0

भारत सरकार ने नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) लागू करके पूर्वी पाकिस्तान और बंग्लादेश के शरणार्थियों को न्याय दिलाने की कवायद शुरू कर दी है। पाकिस्तान और बांग्लादेश की हिंदू कालोनियों में लगने वाले ‘अल्लाह ओ अकबर’ के नारों के बीच खुद को असहाय समझने वाले लोग सीएए कानून लागू होने से खुश नजर आ रहे हैं। अमित शाह की रैली में आए हुए शरणार्थियों से जब आईएएनएस ने बातचीत की तो उनका दर्द कुछ इस तरह छलका :

लखीमपुर के रहने वाले विश्राम विश्वास ने बताया कि वह अपने दादा के साथ 1975 में पूर्वी पाकिस्तान से आए थे। उनके दादा के और उनके परिवार के साथ वहां पर बहुत अन्याय हुआ। वे अपना त्यौहार नहीं माना पाते थे। काफी लूट-पाट होती थी। इसके बाद उन्होंने उस देश को छोड़ने का निर्णय लिया।

खीरी जिले के रमिया बेहड़ ब्लक में सुजानपुर (कृष्णनगर) के रहने वाले अनुकूल चंद्र दास ने बताया कि जब उनके पिताजी, मां, दादी और उनका एक छोटा भाई पूर्वी पाकिस्तान के जिला फरीदपुर की तहसील गोपालगंज क्षेत्र से विस्थापित होकर आए, तब उनकी उम्र मात्र 14 साल थी। शुरुआत में उनका परिवार माना कैम्प, रायपुर (तब के मध्यप्रदेश और वर्तमान छत्तीसगढ़) में रुका। 3 माह तक ट्रांजिट कैम्प में रुकने के बाद पहले 1700 परिवार उधम सिंह नगर और रुद्रपुर आए। वहां से सरकार ने इन परिवारों को खीरी जिले में विस्थापित किया। बाद में भी हजारों परिवार लगातार 1970 तक खीरी में आकर बसे। यह लोग सीएए कानून लागू होने की खुशी मना रहे हैं।

रवींद्रनगर, मोहम्मदी तहसील खीरी के रहने वाले निर्मल विश्वास ने बताया कि उनका परिवार बांग्लादेश के जसोर जिला से आाए थे। तब निर्मल आठ साल के थे। सन् 1964 में अपने माता-पिता के साथ आए निर्मल के पिता खीरी तक नहीं पहुंचे और विस्थापन की दौड़ में कलकत्ता (कोलकाता) में ही उनकी मौत हो गई। आज निर्मल 65 साल के बुजुर्ग हैं। उन्होंने बताया कि इनके पास वोटर कार्ड और राशन कार्ड तो बन गए, पर नागरिकता अभी तक नहीं मिली है। यह कानून लागू होने के बाद भारत के नागरिक बन जाएंगे।

रमेश अहूजा ने बताया कि उनके परदादा लखीमपुर 1967 में आए थे। पूर्वी पाकिस्तान में छोटे बच्चों तक की हत्या होती थी। वहां के लोग हिंदुओं की बस्ती में जबरदस्ती नारेबाजी करते थे। ऐसी हालत में उनके दादाजी वहां से जान बचाकर भागे थे।

विक्रम ने कहा, “सीएए कानून का विरोध करने वालों को एक बार इस कानून के बारे में पढ़ना चाहिए। वे हम लोगों से मिलें, हम उन्हें अपनी दर्दभरी दास्तां सुनाएंगे, तब उन्हें यकीन होगा।”

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleसैमसंग गैलेक्सी एस 8, गैलेक्सी एस 8+ को जनवरी 2020 सुरक्षा पैच जारी किया गया
Next articleराजामौली की फिल्म ट्रिपर आर में ऐसा होगा अजय देवगन का किरदार
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here