रणजी ट्रॉफी : विष्णु, सचिन ने केरल को संभाला

0
93

विष्णु विनोद (नाबाद 155) और कप्तान सचिन बेबी (143) ने शतकीय पारियां खेल कर यहां सेट जेवियर कॉलेज ग्राउंड पर खेले जा रहे रणजी ट्रॉफी के ग्रुप-बी के मैच में केरल को मध्य प्रदेश के खिलाफ संभाले रखा है। केरल ने मैच के तीसरे दिन शुक्रवार का अंत आठ विकेट के नुकसान पर 390 रनों के साथ किया है। उसने मध्य प्रदेश पर 125 रनों की बढ़त ले ली है।

दिन का खेल खत्म होन तक विनोद के साथ बासिल थम्पी 30 रन बनाकर खेल रहे हैं। विनोद ने अभी तक अपनी पारी में 226 गेंदों का सामना किया है और 14 चौकों के अलावा तीन छक्के लगाए हैं।

विनोद ने कप्तान सचिन के साथ सातवें विकेट के लिए 199 रनों की साझेदारी की। यह साझेदारी तब आई तब केरल ने अपने छह विकेट 100 के कुल स्कोर पर खो दिए थे। केरल ने दिन की शुरुआत चार विकेट के नुकसान पर 38 रनों के साथ की।

सचिन एक छोर संभाले रहे, लेकिन दूसरे छोर से वी.ए. जगदीश (26) और संजू सैमसन (19) के जाने से टीम लड़खड़ा गई। फिर सचिन को विनोद का साथ मिला। 299 के कुल स्कोर पर सारांश जैन ने सचिन को आउट कर इस साझेदारी को तोड़ा। सचिन ने अपनी पारी में 211 गेंदों का सामना करते हुए 14 चौके और तीन छक्के लगाए।

चेन्नई में खेले जा रहे इस ग्रुप के अन्य मैच में बंगाल मेजबान तमिलनाडु पर जीत दर्ज करने से 129 रन दूर है जबकि उसके पास आठ विकेट और दो दिन का समय है।

तमिलनाडु ने पहली पारी में 263 रन बनाए थे। बंगाल की टीम दूसरी पारी में 189 रनों पर ही ढेर हो गई। इस लिहाज से तमिलनाडु के पास पहली पारी के आधार पर 74 रनों की बढ़त थी। ऋत्विक चटर्जी के पांच विकेटों के दम पर बंगाल ने तमिलनाडु को दूसरी पारी में 141 रनों पर ही रोक दिया जिससे उसे 216 रनों का लक्ष्य मिला।

बंगाल ने लक्ष्य का पीछा करते हुए तीसरे दिन का अंत दो विकेट के नुकसान पर 87 रनों के साथ किया। स्टम्प्स तक कप्तान मनोज तिवारी 13 और आमिर गनी एक रन बनाकर खेल रहे हैं। बंगाल ने अभिषेक रमन (53) और कौशिक घोष (13) के रूप में दो विकेट खोए हैं।

हैदराबाद में खेले जा रहे इस ग्रुप के अन्य मैच में हिमाचल प्रदेश ने हैदराबाद टीम को तीसरे दिन 352 रनों पर समेट दिया। हिमाचल प्रदेश ने अपनी पहली पारी में 351 रन बनाए थे।

हैदराबाद के लिए अक्षत रेड्डी ने 199 गेंदों पर 15 चौके और दो छक्कों की मदद से सर्वाधिक 99 रन बनाए। रवि तेजा ने 75 रन बनाए जिसके लिए उन्होंने 116 गेंदों का सामना किया तथा 10 चौकों के अलावा दो छक्के मारे।

बवांका संदीप ने 107 गेंदों पर तीन चौकों की मदद से 50 रनों की पारी खेली। हिमाचल प्रदेश के लिए मयंक डागर और अर्पित गुलेरिया ने तीन विकेट लिए।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस


SHARE
Previous articleदिल्ली हाईकोर्ट ने राजपाल यादव को तीन महीने के लिए तिहाड़ जेल भेजा
Next articleत्वचा के दाग धब्बों और चेहरे की झुर्रियों को पलभर में दूर कर देगा यह कैप्सूल
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here