राम, बुद्ध व कृष्ण तीनों सर्किट प्राथमिकता में : केशव मौर्य

0
199

उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने बुद्ध पूर्णिमा के अवसर पर लोक निर्माण विभाग के निरीक्षण भवन स्थित प्रांगण में नवनिर्मित ‘तथागत’ सभागार का लोकार्पण किया। उन्होंने कहा कि महात्मा बुद्ध जिनके शांति के उपदेशों के ज्ञान को सारी दुनिया ने स्वीकार किया है, इस पावन अवसर पर आज इस सभागार का नामकरण उन्हीं को समर्पित करते हुए तथागत सभागार रखा गया है।

इस मौके पर आयोजित प्रेस वार्ता में उन्होंने कहा, “राम, बुद्ध व कृष्ण तीनों सर्किट हमारी शीघ्र प्राथमिकता में है और कम से कम समय एवं लागत में पूर्ण गुणवत्ता के साथ शीघ्र योजना बनाकर पूर्ण किया जाएगा।”

उन्होंने उप्र बोर्ड की परीक्षा उत्तीर्ण करने वाले समस्त विद्यार्थियों को बधाई दी और ऐलान किया कि हाईस्कूल परीक्षा में टॉप टेन स्थान पाने वाले 55 विद्यार्थियों तथा इंटरमीडिएट की परीक्षा में टॉप टेन आने वाले 42 विद्यार्थियों के गांव की सड़कों को पक्का कर मुख्यमार्ग से जोड़ा जाएगा।

उन्होंने कहा कि पिछले वर्ष के मेधावियों के गांव को मुख्य मार्ग से जोड़े जाने का कार्य लगभग पूर्ण हो चुका है, शीघ्र ही संयुक्त रूप से एक कार्यक्रम कर उनका उद्घाटन मेधावियों से कराया जाएगा।

मौर्य ने कहा कि इस वर्ष के मेधावियों के गांव की सड़कों का सर्वेक्षण शीघ्रातिशीघ्र कराकर कार्ययोजना बनाते हुए सड़कों का निर्माण कार्य शुरू किया जाएगा। प्रदेश में सभी बोर्डो के मेधावी छात्रों के गांव की सड़कों को जोड़ने का काम लोक निर्माण विभाग करेगा।

नव निर्मित सभागार के बारे में उन्होंने बताया कि इसमें 50 व्यक्तियों के बैठने तथा वीडियो कान्फ्रेंसिंग की व्यवस्था की गई है। इस सभागार के बन जाने से वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से प्रदेश में चल रहे विकास कार्यों की समीक्षा करना आसान होने के साथ-साथ मुख्यालय में अधिकारियों के आने-जाने के समय में बचत होगी।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस


SHARE
Previous articleसीएम योगी ने कहा, यूपी में डॉक्टरों की काफी कमी है
Next articleजम्मू कश्मीर में आतंकियों ने 3 नागरिकों की हत्या की
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here