रक्षाबंधन 2020: अपने भाई को ना बांधें ऐसी राखी, मानी गई है अशुभ

0

पंचांग के मुताबिक श्रावण मास की पूर्णिमा यानी 3 अगस्त को रक्षाबंधन का त्योहार मनाया जाएगा। भाई की लंबी उम्र और सुख समृद्धि की कामना के लिए बहनें भाई की कलाई पर राखी बांधती हैं मगर कभी कभी अनजाने में ऐसी राखियां खरीद लेते हैं जो शुभ नहीं बल्कि अशुभ होती हैं इसलिए राखी का चुनाव करते वक्त कुछ बातों का ध्यान रखना जरूरी हैं तो आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि रक्षाबंधन पर किस तरह की राखी बाधना भाई के लिए लाभकारी होगा, तो आइए जानते हैं।

जाने अनजाने में बाजार से राखियां लाने में टूट जाती हैं और हम उसे वापस जोड़कर सही कर लेते हैं अगर कोई राखी खंडित हो जाए तो उसका प्रयोग भाई की कलाई पर ना करें। चीन से आने वाली प्लास्टिक की राखियों का इस्तेमाल भी नहीं करना चाहिए क्योंकि प्लास्टिक को केतु का पदार्था माना गया हैं और ये अपयश को बढ़ाता हैं इसलिए रक्षांधन के दिन प्लास्टिक की राखियों से बचना चाहिए। बाजार में कई तरह की डिजाइनर राखियां बिक रही हैं जो भारतीय सभ्यता के हिसाब से सही नहीं बनाई जा रही हैं इनके प्रयोग से भी बचना चाहिए। राखी ऐसी नहीं होनी चाहिए जिसमें कोई धारदार या किसी तरह कोई हथियार बना हो। कई राखियों में भगवान के चित्र बने होते हैं इस तरह की राखियों को शुभ नहीं माना गया हैं बहनों को इस तरह की राखी खरीदने से बचना होगा। बहनें कोशिश करें कि रेशम से बनी कलावे की या सूती राखी का ही प्रयोग करें। इस तरह की राखी बांधने से भाइयों के यश में वृद्धि होती हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here