राजू बंधुआ मजदूर से बन गया ‘जमीन का मालिक’

0
82

पी.राजू के चेहरे पर खिली चमक उनकी खुशहाली की कहानी बयां कर जाती है। राजू कभी बुंदेलखंड में बंधुआ मजदूर हुआ करते थे मगर आज पैरंबलोर में साढ़े चार एकड़ जमीन का मालिक हैं।

राजू (61) की कहानी बड़ी दिलचस्प है, वह जब तीन साल के थे, तब उनके पिता पी. पालनीस्वामी वर्ष 1961 में अपने साथ काम पर बुंदेलखंड ले गए। बालक राजू झांसी के आसपास के इलाके में जवान हुआ, उसने वहां पत्थर काटने का काम किया। राजू के जीवन के 27 साल वहीं बीते, मगर विवाह तामिलनाडु में ही किया।

राजू बताते हैं कि उनके जीवन में बड़ा बदलाव लाने वाला दिन 28 सितंबर, 1988 था, जब वह ठेकेदारों के चंगुल से पूरी तरह मुक्त हुए। पी.वी. राजगोपाल का वहां पहुंचना हुआ, राजगोपाल उन दिनों सर्वोच्च न्यायालय द्वारा बंधुआ मुक्ति अभियान के आयुक्त नियुक्त किए गए थे।

बुंदेलखंड के अनुभवों को साझा करते हुए राजू कहते हैं कि वहां पत्थर काटने का काम तामिलनाडु के मजदूर ही किया करते हैं, क्योंकि तामिलनाडु के मजदूरों में पत्थर काटने का हुनर है और वे मेहनती भी ज्यादा हैं। राजू स्वयं एक दिन में 100 पत्थर तक काट लिया करते थे।

राजू वहां के ठेकेदारों की कार्यशैली से अब भी नाराज हैं, भले ही उन्हें वहां से लौटे तीन दशक बीत गए हों। वह बताते हैं कि ठेकेदार 1000 रुपये पेशगी के तौर पर देकर अपने जाल में फंसा लेते हैं और उसके बाद मजदूरी की रकम में से पेशगी की किस्त के तौर पर काटते हैं, जब भी काम छोड़ने की बात करो, धमकाते हैं।

राजू बताते हैं कि जो भी मजदूर काम छोड़कर दूसरे स्थान पर जाने की बात जैसे ही करता है, ठेकेदार धौंस जमाता है। पहले तो पेशगी में दी गई रकम को दोगुनी से ज्यादा बताकर वापस मांगता है। मजदूर के पास उतनी रकम होती नहीं, उसके बाद भी मजदूर जाने की जिद करता है तो उससे मारपीट तक की जाती है।

बुंदेलखंड में पत्थर के कारोबार में सक्रिय कई ठेकेदारों और दबंगों के नाम अब भी राजू को याद है। वह कहते हैं कि पी.वी. राजगोपाल ने झांसी जिले के कस्बे मोंठ के पास स्थित दासना व अन्य गांव से एक दिन में ढाई सौ से ज्यादा परिवारों को मुक्त कराया था। प्रशासन के सहयोग के चलते मजदूरों के गिरवी रखे गहने भी सूदखोर ने लौटा दिए थे।

राजू इस समय साढ़े चार एकड़ जमीन के मालिक हैं। उनके तीन बेटे और एक बेटी है। बेटी की शादी हो चुकी है। राजू अब पूरी तरह निश्चिंत हैं। उनका कहना है कि कभी भी दिहाड़ी के लिए परेशान न होकर स्थायी आमदनी का जरिया खोजना चाहिए।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस


SHARE
Previous articleकिसी को बिना बताएं दिवाली के दिन पर्स में रख ले यह 3 चीजें, कभी नही होगी धन की कमी
Next articleतारे से किसी ग्रह में इस तरह से तब्दिल होता है, देखिये इसका अद्भुत नज़ारा
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here