राजस्थान : UPSC के विज्ञापन में उपनाम को लेकर तनाव के हालात

0

संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) द्वारा कॉर्पोरेट मंत्रालय में कंपनी अभियोजक के पद पर नियुक्ति के लिए हाल ही में जारी एक विज्ञापन ने राजस्थान में एक जातिगत भेदभाव के विवाद को जन्म दे दिया है। विज्ञापन में ऐसा दिखाया गया है कि केवल मीना और मीणा उपनाम वाले उम्मीदवार ही अनुसूचित जनजाति के माने जाएंगे। मामले की गंभीरता को देखते हुए आखिरकार राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को हस्तक्षेप करना पड़ा। उन्होंने इसे लेकर कई सारे ट्वीट किए।

उन्होंने हाईकोर्ट में दिए गए जवाब का हवाला देते हुए मीणा और मीना को एक ही जाति का बताया और कहा कि अंतर केवल वर्तनी में है।

अपने ट्वीट में उन्होंने कहा, “संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) द्वारा कॉर्पोरेट अफेयर्स मंत्रालय में कंपनी प्रॉसीक्यूटर के पद पर भर्ती के लिए विज्ञापन जारी किया गया। इसमें मीणा जाति वाले अभ्यर्थियों को अनुसूचित जनजाति मानकर आरक्षण के लाभ के योग्य माना गया है, जबकि मीना उपनाम वाले अभ्यर्थियों को योग्य नहीं माना गया है।”

उन्होंने आगे लिखा, “राजस्थान राज्य में मीना/मीणा दोनों सरनेम वाले लोगों को अनुसूचित जनजाति प्रमाणपत्र जारी किए जाते रहे हैं। मीना/मीणा के मुद्दे पर माननीय उच्च न्यायालय में भी कई रिट याचिकाएं डाली गईं, जिस पर मुख्य सचिव, राजस्थान सरकार ने माननीय न्यायालय में शपथपत्र देकर स्पष्ट किया गया कि मीना/मीणा दोनों एक ही जाति हैं। इनमें केवल स्पैलिंग का अंतर हैं।”

वह आखिर में लिखते हैं, “राजस्थान में इस मुद्दे पर कोई विवाद नहीं है। राजस्थान सरकार केंद्र सरकार को इस मुद्दे पर स्पष्टीकरण जारी कर मीना और मीणा विवाद को खत्म कराने के लिए फिर से पत्र लिखेगी।”

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

 

 

SHARE
Previous articleNavratri recipe 2020:इस नवरात्रि में स्वाद बढ़ाने के लिए आप घर पर बनाएं व्रत इडली और चटनी
Next articleMumbai Mall Fire: मुंबई के शॉपिंग मॉल में भीषण आग, बगल की इमारत से हटाए 3500 लोग….
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here