राजस्थान : दशहरा के दौरान हिंसा के बाद मालपुरा में कर्फ्यू

0
112

राजस्थान के मालपुरा शहर में दशहरा जुलूस के दौरान पथराव की घटना सामने आई है, जिसकी वजह से क्षेत्र में विरोध प्रदर्शन हुए और वहां तनाव व्याप्त है। यहां अंतत: बुधवार तड़के 4.30 बजे कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच रावण का पुतला दहन किया गया। जब पुतला दहन हो रहा था, दशहरा मैदान को कड़ी सुरक्षा के बीच किले में तब्दील कर दिया गया था।

पुलिस ने बुधवार को कहा, प्रशासन ने स्थिति नियंत्रित करने की कोशिश की और क्षेत्र में भारी तनाव को देखते हुए इंटरनेट सेवा स्थगित कर दी गई और मध्यरात्रि तक कर्फ्यू लगा दिया गया है।

मालपुरा के एसडीएम अजय कुमार ने कहा, “क्षेत्र में तनाव की स्थिति को देखते हुए जिला व पुलिस प्रशासन ने मंगलवार आधी रात से अगले आदेश तक इंटरनेट सेवा स्थगित करने के आदेश दिए हैं।”

जिला कलेक्टर के.के. शर्मा और पुलिस अधीक्षक आदर्श सिद्धू भारी सुरक्षाबल के साथ घटना के बाद क्षेत्र में मौजूद थे।

मालपुरा के एसएचओ दलपत सिंह ने कहा कि घटना के बाबत कुछ बदमाशों को हिरासत में लिया गया है।

उन्होंने कहा, “हमारे पास वीडियो क्लिप भी है, जिसे हम आरोपियों को गिरफ्त में लेने के लिए देख रहे हैं। मौजूदा समय में स्थिति नियंत्रण में हैं। हालांकि हम कोई भी लापरवाही नहीं बरत रहे हैं।”

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस


SHARE
Previous articleचाणक्य नीति: आचार्य चाणक्य की इन बातों पर कर लिया अमल तो जिंदगी भर नहीं होगी सुख की कमी
Next articleCuteness Alert! दीदी कहकर बुलाते रहे बच्चे, फिर अचानक सारा अली खान ने किया ये काम
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here