फतेहपुर सीकरी से संसद की राह कांटों से भरी होने वाली है राज बब्बर के लिए, मिलेगी जीत या हार,जानते हैं कुंडली से

0
48

जयपुर। चुनावी रण में सभी नेता अपने अपने चुनाव प्रचार में लगें हुए हैं, इसके साथ ही सभी नेता अपनी अपनी जीत के लिए आस्वस्थ हैं। ऐसे में आज हम इस लेख में उत्तर प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष और पार्टी के कद्दावर नेता राज बब्बर की कुंडली का विश्लेषण कर रहें हैं।

 

 

राज बब्बर लोकसभा चुनाव में कांग्रेस ने राज बब्बर को मुरादाबाद से अपना प्रत्याशी घोषित कर दिया था, लेकिन बाद में उनका चुनाव क्षेत्र बदलकर फतेहपुर सीकरी कर दिया गया। इससे पहले 2009 में भी राज बब्बर ने फतेहपुर सीकरी की संसदीय सीट से चुनाव लड़ा था,  लेकिन उस समय बहुजन समाज पार्टी के प्रत्याशी से लगभग नौ हजार मतों से हार का सामना करना पड़ा था। अब एक बार फिर से वे इसी सीट से चुनाव मैदान में उतर रहें हैं। अब देखना है कि इस बार के चुनाव में उनका प्रदर्शन कैसा रहेगा।

राज बब्बर का जन्म 23 जून, 1952 आगरा, उत्तरप्रदेश में हुआ इनकी कुंड़ली में गोचररत शनि सूर्य, चंद्रमा, शुक्र और बुध को देख रहा हैं। इसके साथ ही गोचररत राहु सूर्य, चंद्रमा, शुक्र और बुध के ऊपर भ्रमण कर रहा हैं।

राज बब्बर की कुंडली में ग्रहों के आधार पर आगामी लोकसभा चुनाव में इनको कठिन परिस्थितियों का सामना करना पड़ सकता है। इनकी कुंड़ली में गोचररत शनि की दृष्टी कई सारे ग्रहो पर पड़ रही है। जिस कारण से इनके इस समय अपने समर्थकों और मतदाताओं से उचित सहयोग नहीं मिलेगा।  इनकी कुंड़ली में राहु के गोचर के कारण इनको मानसिक दबाव के साथ ही निराशा का भी सामना करना पडेगा।

लोक सभा चुनाव के दौरान विवादों में भी पड़ सकते हैं। इनकी कुंडली से मंगल का पारगमन इनके लिए शुभ नहीं हैं। इसके कारण मेहनत का उचित फल नहीं मिलेगा। इनकी कुंडली के आधार पर इस बात का पता लगाया जा सकता है कि अपनी मेहनत से  लोगों का दिल जीतने की पूरी कोशिश करेंगे, लेकिन ग्रहों के पारगमन के कारण इनकी जीत के लिए अनुकूल समय नहीं है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here