राजग का राफेल सौदा संप्रग से 2.86 फीसदी सस्ता : कैग

0
124

आम चुनावों से पहले सरकार को राहत पहुंचाते हुए भारत के नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (सीएजी) की 59,000 करोड़ रुपये के विवादास्पद राफेल सौदे पर आई बहुप्रतीक्षित रिपोर्ट में कहा गया है कि राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) सरकार द्वारा 2016 में 36 लड़ाकू विमानों के लिए हस्ताक्षरित सौदे की कीमत संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) सरकार द्वारा प्रस्तावित कीमत से 2.86 फीसदी कम है, लेकिन यह पाया गया है कि वर्तमान पूंजी अधिग्रहण प्रणाली भारतीय वायु सेना को प्रभावी ढंग से मदद करने में सक्षम नहीं है।

इस रिपोर्ट में हालांकि मीडियम मल्टी रोल लड़ाकू विमान (एमएमआरसीए) सौदे के विवादास्पद ऑफसेट खंड की चर्चा नहीं की गई है। इस रिपोर्ट में 36 राफेल लड़ाकू विमानों के मूल्य की जांच की गई है, लेकिन वास्तविक मूल्य का खुलासा नहीं किया गया है।

माना जा रहा है कि राफेल सौदा 59,000 करोड़ रुपये में किया गया है।

कांग्रेस और अन्य विपक्षी दलों द्वारा सरकार पर राफेल सौदे में घोटाले का आरोप लगा कर हमला किया जा रहा है, ऐसे में सीएजी की इस रिपोर्ट से सरकार को राहत मिली है। इससे पहले सर्वोच्च न्यायालय ने पिछले साल सरकार को क्लिन चिट दी थी।

संसद के पटल पर बुधवार को रखी गई ‘कैपिटल एक्वीजिशन ऑन इंडियन एयर फोर्स’ रिपोर्ट में सीएजी ने कहा, “कुल मिलाकर इसे इस रूप में देखा जा सकता है कि सीवी मिलियर यूरो के ऑडिट के जरिए अनुमानित संरेखित कीमत के मुकाबले यह अनुबंध ‘यू’ मिलियन यूरो पर हुआ, यानी ऑडिट संरेखित मूल्य से यह 2.86 फीसदी कम है।”

रिपोर्ट में ऑडिट के निष्कर्ष शामिल हैं, जो फ्रांस की सरकार के साथ आईजीए के जरिए मीडियम मल्टी रोल कॉम्बैट एयरक्राफ्ट के अधिग्रहण से जुड़े हैं। इसमें कीमत की जांच भी शामिल है।

कीमतों की तुलना के तौर-तरीके पर प्रकाश डालते हुए राष्ट्रीय लेखापरीक्षक ने कहा है कि मेसर्स दसॉ एविएशन द्वारा अप्रैल 2008 में 2007 के रिक्वेस्ट फॉर प्रपोजल (आरएफपी) पर पेश की कई कीमत बाजार की कीमत थी और यह प्रतिस्पर्धी बोली पर आधारित थी।

साल 2007 के मूल्य प्रस्तावों में दो अलग-अलग पैकेज थे। इसमें 18 विमानों की कीमत व 108 विमानों का टीओटी पैकेज शामिल था, जिसके भारत में उत्पादन का लाइसेंस भी था।

सीएजी ने कहा कि दूसरी तरफ 2015 के प्रस्ताव में सिर्फ 36 लड़ाकू विमान शामिल थे। 2007 व 2015 के अधिग्रहण व कीमत की बोलियों में बहुत ज्यादा अंतर था। बाद वाले प्रस्ताव 2015 में भारत में 108 विमानों के उत्पादन के लिए लाइसेंस के टीओटी की कीमत शामिल है, जो 2007 की कुल कीमत की बोली का 77.8 फीसदी था।

2007 और 2015 की मूल्य बोलियों के तुलनात्मक विश्लेषण में सीएजी ने कहा, “आईएनटी द्वारा तैयार संरेखित कीमत ‘यू1’ मिलियन यूरो थी, जबकि लेखापरीक्षा द्वारा मूल्यांकन की गई कीमत संरेखित कीमत ‘सीवी’ मिलियन यूरो थी, जो कि आईएनटी से संरेखित लागत से 1.23 फीसदी कम थी।”

सीएजी की रिपोर्ट में कह गया कि आईएनटी द्वारा अनुमानित संरेखित कीमत और लेखापरीक्षा द्वारा मूल्यांकित कीमत के बीच के अंतर को आईएनटी द्वारा अपना गए असंगत मूल्य भिन्नता कारकों को जिम्मेदार ठहराया जा सकता है, दोनों प्रस्तावों की मात्रा/दायरे के देखते हुए इसके संरेखन में भी कठिनाई है।

इस सौदे में छह अलग-अलग पैकेज हैं जिसमें फ्लाईअवे एयरक्राफ्ट पैकेज, मेंटनेंस पैकेज, विशिष्ट भारतअनुकूल उन्नयन, वेपन पैकेज, एसोसिएट सेवाएं और सिमुलेटर पैकेज शामिल है। इस छह पैकेज के अंतर्गत कुल 14 सामान हैं।

हरेक सामान के कीमत का विश्लेषण करने से पता चलता है कि सात सामानों के अनुबंधित मूल्य संरेखित मूल्य से अधिक थे, जबकि तीन का समान था और चार का कम था। इसके अलावा एलीमेंट्स की कीमतों की तुलना नहीं की जा सकती, क्योंकि दसॉ की 2007 की बोली का स्ट्रक्चर/फॉर्मेट 2015 के बोली के स्ट्रक्चर/फॉर्मेट से अलग थी।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस


SHARE
Previous articleसैमसंग अब एम सीरिज का एक और जल्द स्मार्टफोन लाँच कर सकती है
Next articleजीवन में प्रेम को बढ़ाने के लिए घर में जरूर रखे बांसुरी…
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here