क्वेस्ट अलायंस ने कहा, शिक्षकों को तकनीकी कौशल की जरूरत

0
559

शिक्षा के क्षेत्र में कार्य कर रही संस्था क्वेस्ट अलायंस ने बुधवार को भविष्य के रोजगार के लिए युवाओं को तैयार करने को लेकर अपना शोध अध्ययन ‘श्वेत पत्र’ जारी किया, जिसमें शिक्षकों के लिए तकनीकी कौशल की आवश्यकता पर प्रकाश डाला गया है। क्वेस्ट अलायंस ने यह श्वेत पत्र अमेरिकी बहुराष्ट्रीय कंपनी माइक्रोसॉफ्ट के सामाजिक व परोपकारी कार्यो को अंजाम देने वाली संस्था माइक्रोसॉफ्ट फिलेंन्थ्रॉपीज और टेंडम रिसर्च की साझेदारी में पेश किया है।

क्वेस्ट अलायंस के कार्यकारी निदेशक अकाश सेठी ने कहा, “श्वेतपत्र का मुख्य उद्देश्य, भारत के लिए 21वीं सदी में आवश्यक कौशल के बारे में जागरूकता बढ़ाना और शिक्षा की गुणवत्ता व कौशल प्रशिक्षण में मौजूदा अंतराल को दूर करने के लिए शिक्षकों को सक्षम बनाना है। उन्होंने कहा कि शिक्षकों को तकनीकी कौशल हासिल करने की जरूरत है ताकि वे बेहतर तरीके से छात्रों का मार्गदर्शन कर पाएं।

उन्होंने कहा कि प्रौद्योगिकी के विकास से हर क्षेत्र में तेजी से बदलाव आया है, जिसके चलते पहले से बेहतर डिजिटल क्षमता की मांग काफी बढ़ गई है। आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस (एआई), ब्लॉकचैन और आईओटी जैसी नई प्रौद्योगिकियों के आगमन के साथ युवाओं व पेशेवरों के लिए कौशल विकास बेहद महत्वपूर्ण हो गया है।

उन्होंने बताया, “पिछले दो साल में हमने देश के 13 राज्यों के 100 से अधिक केंद्रों में 40,000 से अधिक युवाओं को प्रशिक्षण दिया है।”

इस मौके पर फिलेंन्थ्रॉपीज, माइक्रोसॉफ्ट इंडिया के निदेशक मंजू धसमाना ने कहा, “माइक्रोसॉफ्ट का लक्ष्य यह सुनिश्चित करना है कि सभी युवा भविष्य के लिए तैयार हों और वर्तमान व भावी नियोक्ताओं की मांग के अनुरूप उनको कौशल प्राप्त हो।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस


SHARE
Previous articleकुछ करना हो अलग तो प्री वेडिंग में अपनाएं ये तरीके
Next articleमाइक्रोमैक्स ने भारत 5 प्रो स्मार्टफोन लाँच किया, जिसकी बैटरी 5000 एमएएच की, ये फोन पावरबैंक का भी काम करेगा
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here