Purushottam Maas 2020: पुरुषोत्तम मास में किया गया दान पुण्य दिलाता है अक्षय फल

0

हिंदू धर्म में पुरुषोत्तम मास कहा जाता हैं वही यह मास भगवान श्री विष्णु को अति प्रिय हैं दान, पुण्य, पूजा पाठ के लिए इस महीने को पवित्र माना जाता हैं इस महीने में जगत के पालनहार श्री विष्णु की पूजा और श्रीमद्भ भागवतकथा का श्रवण करने से कई गुना शुभ फल की प्राप्ति होती हैं इस महीने में किया गया दान अक्षय फल दिलाने वाला हैं तो आज हम आपको इस माह के महत्व के बारे में बताने जा रहे हैं तो आइए जानते हैं।

आपको बता दें कि पुरुषोत्तम मास में किसी देवस्थान के दर्शन करना शुभ माना जाता हैं इस पूरे महीने में व्रती को व्रत उपवास का पालन करना चाहिए। जमीन पर शयन करना, एक समय सात्विक भोजन ग्रहण करना शुभ होता हैं पुरुषोत्तम मास में भगवान विष्णु की पूजा, मंत्र जाप, हवन, श्रीमद्भागवत, श्रीरामायण, विष्णु स्तोत्र, रूद्राभिषेक का पाठ करना जरूरी होता हैं मान्यताओं के मुताबिक पुरुषोत्तम माह में किए गए धार्मिक कार्यों का किसी भी अन्य महीने में किए गए पूजा पाठ से दस गुना अधिक फल की प्राप्ति होती हैं इस महीने मौन रखने से मानसिक शक्ति में वृद्धि होती हैं इस महीने मांगलिक कार्य नहीं किए जाते हैं धार्मिक अनुष्ठान, स्नान, दान, व्रत उपवास आदि किए जाते हैं। अधिकमास में शुक्ल एकादशी पद्मिनी एकादशी और कृष्ण पक्ष एकादशी परमा एकादशी कहलाती हैं मान्यताओं के मुताबिक इन एकादशी का व्रत पालन करन से जीवन में खुशहाली आती हैं इस महीने में शादी विवाह, मुंडन्, नववधु गृह प्रवेश, नामकरण जैसे संस्कार करने की मनाही होती हैं नया वस्त्र धारण करना, नई चीजों की खरीदारी करना, वाहन आदि का क्रय करना भी निषेध माना जाता हैं। अधिक मास में दान पुण्य जरूर करना चाहिए।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here