पंजाब का कुख्यात ड्रग तस्कर जग्गू भगवानपुरिया कोरोना पॉजिटिव, पुलिस में हड़कंप

0

पंजाब के कुख्यात ड्रग तस्कर जगदीप सिंह उर्फ जग्गू भगवानपुरिया की कोरोना पॉजिटिव रिपोर्ट आते ही बटाला पुलिस में हड़कंप मच गया है। यूं तो जग्गू पटियाला जेल में बंद था, मगर कुछ दिन पहले ही बटाला पुलिस उसे प्रोडक्शन वारंट पर पूछताछ पर लेकर आयी थी। जग्गू की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आते ही उससे पूछताछ में जुटे कई पुलिस अफसरों और कर्मचारियों ने खुद को होम क्वारंटाइन कर लिया है।

मंगलवार को मीडिया से इसकी पुष्टि बटाला के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ओपिंदरजीत सिंह और गुरदासपुर से सिविल सर्जन डॉ. कृष्ण चंद ने भी की। पंजाब के कुख्यात गैंगस्टर और मादक पदार्थ तस्कर जग्गू को तरन तारन पुलिस ने होरोइन तस्करी के आरोप में गिरफ्तार किया था। तभी से जग्गू पटियाला जेल में बंद था। पंजाब राज्य में ही हत्या, लूट, झपटमारी, तस्करी के 50 से ज्यादा आपराधिक मामले जग्गू पर दर्ज हैं।

बटाला पुलिस के मुताबिक, सन 2011 तक जग्गू तरन तारन इलाके में एक झपटमार के रुप में जाना जाता था। उसके बाद वो हत्या, लूटपाट और मादक पदार्थ तस्करी के धंधे में कूद पड़ा। फिर उसने पीछे मुड़कर नहीं देखा। कुछ समय से जग्गू पटियाला जेल में बंद था। उसे यहां तरन तारन पुलिस ने गिरफ्तार करके भेजा था।

कुछ दिन पहले ही बटाला पुलिस जग्गू को प्रोडक्शन वारंट पर पूछताछ के लिए पटियाला जेल से निकाल कर लाई थी। ढिल्लवां के सरपंच हत्याकांड में जग्गू से अभी बटाला पुलिस पूछताछ कर ही रही थी। इसी बीच एहतियातन उसका कोरोना जांच के लिए सैंपल लेकर भिजवा दिया गया। मंगलवार को गुरदासपुर सिविल सर्जन ने जैसे ही जग्गू की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आने की दी, स्थानीय पुलिस में हड़कंप मच गया।

आनन-फानन में बटाला पुलिस के उन सभी पुलिस अधिकारियों और कर्मचारियों को एहतियातन होम क्वारंटाइन करा दिया गया है, जो पूछताछ और प्रोडक्शन वारंट पर पटियाला जेल से बटाला लेकर पहुंचे थे।

उल्लेखनीय है कि, अक्टूबर 2019 में जग्गू को अपर महानिरीक्षक (काउंटर इंटेलीजेंस) हरकमप्रीत सिंह की टीम ने जग्गू के राइट हैंड मन्नू मेहमपुरिया को गिरफ्तार किया था। उस वक्त भी जग्गू भगवानपुरिया चर्चा में आया था।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleअक्षय ओबेरॉय ने नए रोल के लिए ‘सूट्स’ के किरदार से प्रेरणा ली
Next article10 दिन की गौरी को ‘नाम’ व ‘जिंदगी’ के बाद अब ‘आशियाने’ का इंतजार
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here