पंजाब : नकली शराब हादसे में मृतकों की संख्या 21 हुई, मुख्यमंत्री ने दिए जांच के आदेश

0

पंजाब के अमृतसर, बटाला और तरन तारन जिलों में नकली शराब के कथित सेवन के कारण कम से कम 21 लोगों की मौत हो गई है। मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने शुक्रवार को जालंधर संभागीय आयुक्त के नेतृत्व में मजिस्ट्रेट जांच के आदेश दिए। नकली शराब से बटाला में शुक्रवार को पांच और लोगों की मौत हो गई। एक व्यक्ति को गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया है। तरन तारन जिले में चार और लोगों की मौत हुई है।

एक आधिकारिक बयान में कहा गया है कि जांच आयोग हादसे के कारणों और परिस्थितियों के साथ-साथ किसी अन्य जुड़े मुद्दे या घटना से संबंधित परिस्थितियों की जांच कर रही है।

एक आधिकारिक प्रवक्ता ने कहा, “जालंधर के संभागीय आयुक्त संबंधित जिलों के संयुक्त आबकारी और कराधान आयुक्त और एसपी (जांच) के साथ मिलकर इस मामले की जांच करेंगे।”

मुख्यमंत्री ने जांच आयोग को किसी भी सिविल, पुलिस अधिकारी और किसी विशेषज्ञ से मदद लेकर शीघ्र जांच करने की स्वतंत्रता दी है। उन्होंने कहा कि दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

अमरिंदर सिंह ने मामले को गंभीरता से लेते हुए, राज्य में सक्रिय शराब निर्माण इकाइयों पर नकेल कसने के लिए पुलिस को तलाशी अभियान शुरू करने का निर्देश दिया है।

पुलिस ने अमृतसर जिले के तरसिक्का गांव में बलविंदर कौर को हूच ट्रैजेडी मामले में गिरफ्तार किया है।

चारों मृतक जसविंदर सिंह, कश्मीर सिंह, कृपाल सिंह और जसवंत सिंह की पोस्टमार्टम की जा रही है, ताकि मौत के सही कारणों का पता लग सके।

मामले के विवरण साझा करते हुए पुलिस महानिदेशक दिनकर गुप्ता ने कहा कि पहली पांच मौतें 29 जून की रात अमृतसर ग्रामीण क्षेत्र के मुच्छल और तंगरा गांवों से हुई थीं।

30 जुलाई की शाम को मुच्छल में दो और व्यक्तियों की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई, जबकि एक व्यक्ति को गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया था, लेकिन बाद में श्री गुरु रामदास अस्पताल में उसने दम तोड़ दिया।

बाद में, मुच्छल से दो अन्य लोगों की मौत की सूचना मिली, जबकि बटाला शहर में कथित तौर पर शराब के सेवन के कारण दो अन्य लोगों की मौत हो गई।

शुक्रवार को बटाला में पांच और लोगों के दम तोड़ने के साथ, शहर में पूरे मामलों की संख्या सात हो गई है, जबकि एक व्यक्ति को गंभीर हालत में बटाला के सिविल अस्पताल में रेफर किया गया है।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleशनि प्रदोष पर ​विशेष संयोग, आज इन उपायों से मिलेंगी साढ़े साती और ढैय्या से राहत
Next articleयूनुस ने राहुल से कहा, हमें असंगठित सेक्टर के मजदूरों की पहचान करनी होगी
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here