डोप टेस्ट में फेल हुए पंजाब कांग्रेस के MLA

पंजाब कांग्रेस में जालंधर में करतारपुर से एमएलए सुरिंदर सिंह चौधरी खुद डोप टेस्ट में फेल। विधायक ने कहा-माइंड रिलेक्स करने वाली दवा ली है और उनके पास डॉक्टर की प्रिस्क्रिप्शन भी है।

0
646

पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह के डोप टेस्ट वाले बयान पर सियासत रंग तेज हो गई है। अब पंजाब कांग्रेस और मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह खुद इस बयान पर घिरते नजर आ रहे हैं, क्योंकि उनकी सरकार में जालंधर में करतारपुर से एमएलए सुरिंदर सिंह चौधरी खुद डोप टेस्ट में फेल हो गए है। डोप टेस्ट को लेकर भाजपा के वरिष्ठ नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा था कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ड्रग्स का सेवन करते हैं. उनका दावा है कि अगर राहुल गांधी का डोप टेस्ट लिया जाए तो वह इसमें फेल हो जाएंगे

पंजाब कांग्रेस के एमएलए सुरिंदर चौधरी रविवार को टेस्ट के लिए अस्पताल के मेडिकल सुपरीटेंडेंट के दफ्तर पहुंचे थे। जहां लैब कर्मचारियों ने उनका यूरीन सैंपल लिया। मंगलवार को जब विधायक के यूरीन सैंपल की जांच की गई तो उसमे नशीली दवा बेंजोडाइजेपिन के अंश पाए गए। हालांकि टेस्ट में पॉजीटिव पाए जाने पर विधायक सुरिंदर सिंह चौधरी का कहना है कि उन्होंने माइंड रिलेक्स करने वाली दवा ली है और उनके पास डॉक्टर की प्रिस्क्रिप्शन भी है।

आपको बता दें कि नशे की समस्या से निपटने के लिए कैप्टन अमरिंदर सिंह ने सभी सरकारी कर्मचारियों का डोप टेस्ट अनिवार्य करवाया है। इसके बाद से ही नेताओं में डोप टेस्ट कराने की होड़ मची हुई है। अब तक विधायक बावा हैनरी,रजिंदर बेरी,सांसद चौधरी संतोख सिंह, विपक्ष के नेता सुखलाल सिंह खैहरा डोप टेस्ट करवा चुके हैं।

उधर दूसरी ओर डोप टेस्ट को लेकर सरकारी कर्मचारियों में चल रही असमंजस की स्थिति को पंजाब सीएम ने कहा कि यदि किसी भी कर्मचारी का डोप टेस्ट पॉजीटिव आता है तो उसे बर्खास्त नहीं किया जाएगा। बल्कि उसकी पहचान नहीं बताते हुए उसका इलाज करवाया जाएगा। कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि एसएचओ अपने इलाकों के अंतर्गत आने वाले गांवों से नशे की समस्या को दूर करने के लिए जवाबदेह होंगे। राज्य सरकार नशे के आदी लोगों जो इलाज करवा पाने में असमर्थ हैं उनका फ्री में इलाज करवाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here