गर्वित ईबाइक ने लांच किया इलेक्ट्रिक स्कूटर

0
57

गर्वित ईबाइक ने हाल ही में यहां इलेक्ट्रिक स्कूटर लांच किया है। इसे चलाने की लागत 80 किलोमीटर प्रति घंटा की औसत गति के लिए 20 पैसा प्रति किलोमीटर आती है और इसलिए ईबाइकगो न्यूनतम 30 मिनट के लिए 20 रुपये की राशि के साथ रेंटल की पेशकश भी करेगा। कंपनी की तरफ से जारी बयान के अनुसार, ईबाइकगो जल्द ही शहर के लोगों के लिए अपना परिचालन शुरू करेगा, ताकि लोग परिवहन के लिए इलेक्ट्रिक स्कूटर अपनाएं और ट्रैफिक एवं प्रदूषण को कम करें।

कंपनी के संस्थापक डॉ. इरफान खान ने कहा, “हम पूरे भारत में अपने परिचालन का विस्तार करना चाहते हैं, ताकि भारत परिवहन के लिए पर्यावरण-हितैषी साधनों को अपनाए और आधुनिक भारतीयों की भागमभाग जिंदगी में यात्रा सस्ती और क्षमतावान हो। इस ईबाइक्स में लिथियम आयन (लियॉन) बैटरीज का उपयोग किया गया है, जो पर्यावरण में पूरी तरह अपघटित हो जाती है और खतरनाक इलेक्ट्रॉनिक अपशिष्ट को कम करने में मदद करती है।”

उन्होंने कहा, “इसे चलाने की लागत 80 किलोमीटर प्रति घंटा की औसत गति के लिए 20 पैसा प्रति किलोमीटर आती है, इसलिए ईबाइकगो न्यूनतम 30 मिनट के लिए 20 रुपये की राशि के साथ रेंटल की पेशकश करेगा।”

दिल्ली का बढ़ता प्रदूषण लोगों के लिए एक बड़ी समस्या है, क्योंकि प्रदूषण का स्तर गंभीर स्थिति से भी बड़ा हो गया है, जो दिवाली के बाद के स्तर से 40 प्रतिशत ऊपर है और इसे कम करने के लिए कोई ठोस प्रयास नहीं किया गया है।

खान ने कहा, “दिल्ली की जनसंख्या बेंगलुरू से लगभग 65 प्रतिशत अधिक है, लेकिन प्रदूषण 600 प्रतिशत से भी अधिक है। विश्व के चौथे सबसे अधिक जनसंख्या वाले शहर मुंबई से तुलना करने पर पाया गया कि वहां का प्रदूषण दिल्ली से 70 प्रतिशत कम है। प्रदूषण को कम करने के लिए जो कदम बेंगलुरू में उठाए गए हैं, उन्हें दिल्ली में उठाया जाना बाकी है।”

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस


SHARE
Previous articleशर्मनाक – एक बार फिर से 3 साल की बच्ची हुई हैवानियत का शिकार, झाड़ियों मे फैंककर फरार हुए दरिंदे
Next articleहानिकारक सीमेंट रसायनों से भारतीय श्रमिकों को स्वास्थ्य खतरा : एम्स
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here