Education Minister को प्रस्ताव, शैक्षणिक संस्थान खुलें, शोध के लिए मिले और एक वर्ष

0

छात्र संगठनों ने शिक्षण संस्थानों को अविलंब खोलने की मांग केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय के समक्ष रखी है। खासतौर पर उच्च शिक्षण संस्थानों, कॉलेजों और रिसर्च संस्थानों को खोले जाने की मांग केंद्र सरकार से की गई है। इसके साथ ही शोध एवं रिसर्च से जुड़े छात्रों के लिए 1 वर्ष अतिरिक्त देने की मांग भी केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय से की गई है। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद की राष्ट्रीय महामंत्री तथा राष्ट्रीय मंत्रियों के एक प्रतिनिधिमंडल ने मंगलवार को केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ से मुलाकात की। इस दौरान मिलकर शिक्षा मंत्री के समक्ष अकादमिक जगत की वर्तमान समस्याओं के समाधान की मांग रखी गई।

प्रतिनिधिमंडल ने शिक्षा मंत्री से सभी उच्च शिक्षण संस्थानों को शीघ्र छात्रों के लिए पारंपरिक (ऑफलाइन) मोड में खोलने की मांग करते हुए उनके सामने कोरोना के कारण शिक्षा जगत में उत्पन्न समस्याओं के समाधान हेतु सुझाव रखे।

अभाविप की राष्ट्रीय महामंत्री निधि त्रिपाठी ने कहा कि, “हमने केंद्रीय शिक्षा मंत्री से भेंट कर उनसे चर्चा की। हमें आशा है कि सरकार शीघ्र हमारी मांगों पर उचित कदम उठाएगी तथा छात्र अति शीघ्र अपने परिसरों में वापस लौट कर अपनी पढ़ाई पूर्व की भांति कर सकेंगे।”

अभाविप ने कोरोना काल में शोध कार्य में हुई हानि तथा देरी को देखते हुए शोध छात्रों को एक वर्ष का अतिरिक्त समय देने तथा उस अवधि के लिए शोधवृत्ति प्रदान करने के साथ साथ छात्रों को दी जाने वाली सभी प्रकार की छात्रवृत्ति अति शीघ्र प्रदान करने की मांग की।

अभाविप ने महाविद्यालय स्तर पर शिक्षकों को तकनीकी का उपयोग बढ़ाने हेतु प्रशिक्षण दिए जाने की भी बात कही। आपात स्थिति में विद्यालयों, महाविद्यालयों तथा विश्वविद्यालयों में ऑनलाइन कक्षाएं चलाने के लिए पूर्ण व्यवस्था करने को कहा। साथ ही ऑनलाइन पुस्तकालय विकसित कर छात्रों तक संबंधित पठन-पाठन सामग्री की उपलब्धता सुनिश्चित कराए जाने की आवश्यकता पर जोर दिया।

कोरोना महामारी के कारण आर्थिक संकट का सामना कर रहे अभिभावक तथा शैक्षणिक संस्थानों का उपयोग न कर पा रहे छात्रों को राहत देने की आवश्यकता को रेखांकित किया गया। अभाविप ने उन्हें शुल्क में छूट देने की मांग माननीय शिक्षा मंत्री से की। अभाविप प्रतिनिधिमंडल ने राज्य विश्वविद्यालयों की चिंताजनक स्थिति को देखते हुए, उनमें नियमित शिक्षकों की नियुक्ति, उचित व सतत कोष दिए जाने की आवश्यकता बताया। यूजीसी व रूसा के धन आवंटन की राशि बढ़ाने तथा उसके उचित व समावेशी वर्गीकरण की आवश्यकता पर भी जोर दिया।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articlesamsung galaxy tab s7 और s7+प्राप्त करने वाला एंड्रॉइड 11-आधारित वन यूआई 3.1 अपडेट,जानें रिपोर्ट
Next articleएकाधिकार और अनुचित प्रतिस्पर्धा विरोधी कार्यवाइयों को मजबूत करता China
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here