राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ विचारक राकेश सिन्हा बने राज्यसभा सांसद

0
74

जयपुर। राष्ट्रपति नाम नाथ कोविंद ने शनिवार को राज्य सभा के लिए चार सदस्यों को नामांकित किया है। भारत के संविधान के अनुच्छेद 80 के तहत राष्ट्रपति को राज्य सभा में 12 ऐसे सदस्यों को नियुक्त करने का अधिकार है, जो कला, शिक्षा, साहित्य, विज्ञान, खेल, आदि में नाम कमा चुके हो।  इसका इस्तेमाल करते हुए राष्ट्रपति ने किसान नेता राम शकल, लेखक राकेश सिन्हा, मूर्तिकार रघुनाथ महापात्रा और शास्त्रीय नर्तक सोनल मानसिंह।

सोनल मानसिंह एक प्रमुख भारतीय शास्त्रीय नर्तक है जो भरतनाट्यम और ओडिसी नृत्य में माहिर हैं। पिछले कुछ वर्षों में मानसिंह ने मणिपुरी नृत्य और कुचीपुडी समेत कई नृत्य रूपों का अभ्यास किया है। एक नर्तक होने के अलावा, सोनल मानसिंह एक प्रसिद्ध कोरियोग्राफर, शिक्षक, वक्ता और एक सामाजिक कार्यकर्ता हैं।

 

राकेश सिन्हा एक लेखक है और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की विचारधारा से आते है। इसके अलावा वो दिल्ली यूनिवर्सिटी के मोतीलाल नेहरु कॉलेज के प्रोफेसर है। वह वर्तमान में भारतीय विज्ञान परिषद के के सदस्य हैं और सिन्हा दिल्ली स्थित थिंक टैंक “इंडिया पॉलिसी फाउंडेशन” के संस्थापक और निदेशक हैं।

मूर्तिकार रघुनाथ महापात्रा पत्थर की नक्काशी में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रसिद्धी पा चुके है। महापात्र 1959 से इस क्षेत्र से जुड़े हुए है।  उन्होंने अब तक  2000 से अधिक छात्रों को पत्थर की नक्काशी में प्रशिक्षित किया है। उन्होंने पारंपरिक मूर्तिकला और प्राचीन स्मारकों के संरक्षण में एक अहम योगदान दिया है, और श्री जगन्नाथ मंदिर, पुरी के सौंदर्यीकरण पर भी काम किया है। उनके प्रसिद्ध कार्यों में संसद के केंद्रीय हॉल में भूरे बलुआ पत्थर में नक्काशीदार सूर्य देवता की 6 फीट ऊंची मूर्ति और पेरिस का एक  बुद्ध मंदिर शामिल है।

राम शकल उत्तर प्रदेश के एक किसान नेता, सार्वजनिक प्रतिनिधि हैं और पूर्व बीजेपी नेता है,  जिन्होंने दलित समुदाय के कल्याण के लिए अपना जीवन समर्पित किया है। एक किसान नेता, किसानों, मजदूरों और प्रवासियों के कारणों को उठाने के लिए उन्हें व्यापक रूप से सम्मानित किया जाता है। वह तीन बार के संसद सदस्य भी रहे हैं, जो उत्तर प्रदेश के रॉबर्ट्सगंज निर्वाचन क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करते हैं।

खिलाड़ी सचिन तेंदुलकर, अभिनेता रेखा, व्यवसायी अनु आगा और भारत के पूर्व अटॉर्नी जनरल के पारसरन की जगह इन चारों को राज्य सभा के लिए चुना गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here