Bihar में जदयू की सवर्णो को साधने की तैयारी !

0

बिहार में पिछले साल हुए विधानसभा चुनाव में कम सीटें मिलने के बाद से ही जनता दल (युनाइटेड) अपने कुनबे को बढ़ाने में जुटी है। इसी को लेकर पार्टी की नजर अब सवर्ण मतदाताओं पर टिकी हुई है। केंद्र द्वारा सामान्य जातियों के आर्थिक रूप से कमजेार वर्ग के लिए आरक्षण देने के बाद राजनीतिक दलों की नजर सवर्ण मतदताओं पर पड़ी है।

आमतौर पर देखा जाता है कि राजनीतिक दल अपने संगठन में पिछड़ा प्रकोष्ठ, अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ, दलित प्रकोष्ठ, महादलित प्रकोष्ठ सहित कई प्रकोष्ठों का गठन तो करते हैं, लेकिन सवर्ण प्रकोष्ठ का गठन नहीं किया जाता था। इस बीच जदयू ने संगठन में सवर्ण प्रकोष्ठ का गठन कर सवर्णों पर डोरे डालने में जुटी है।

जदयू ने सवर्ण प्रकोष्ठ का अध्यक्ष नीतीश कुमार ‘विमल’ को बनाया है। जदयू के पूर्व अध्यक्ष और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की यह एक बड़ी रणनीति बताई जा रही है। आमतौर पर सवर्ण मतदाताओं को भाजपा का वोट बैंक माना जाता है, ऐसे में जदयू की नजर अपनी ही सहयोगी पार्टी भाजपा के वोट बैंक पर है।

कहा जा रहा है कि अन्य जातीय समीकरण को साधने के बाद अब जदयू की नजर सवर्ण पर जा टिकी है। जदयू ने चुनाव के बाद अपने संगठन में बदलाव करते हुए नीतीश कुमार की जगह राष्ट्रीय अध्यक्ष की जिम्मेदारी आर सी पी सिंह को दी गई है। सिंह लगातार अपने कुनबे को बढ़ाने में जुटे हैं।

सवर्ण प्रकोष्ठ के अध्यक्ष नीतीश कुमार ‘विमल’ कहते हैं कि पार्टी उच्च जाति के लोगों से मिलकर उनकी समस्याओं ओर मुद्दों को जानने की कोशिश करेगी। उनका कहना है कि प्रकोष्ठ यह प्रयास करेगी कि सरकार द्वारा चलाई जा रही योजनाओं का लाभ सवर्णो तक भी पहुंचे।

इधर, पूर्व मंत्री और विधान पार्षद नीरज कुमार कहते हैं कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की पहचान ‘अलग राजनीतिज्ञ’ के रूप में रही है। उन्होंने कहा कि सामान्य जाति के आर्थिक रूप से कमजोर लोगों को आारक्षण देने के पूर्व से ही सवणों के कल्याण के लिए बिहार में काम होते रहे हैं। उन्होंने कहा कि इसी कार्यक्रम में आगे बढ़ाने के लिए पार्टी ने सवर्ण प्रकोष्ठ का गठन किया है।

सूत्रों का कहना है कि बिहार में सवर्ण मतदाताओं की संख्या बहुत ज्यादा नहीं है, लेकिन कई क्षेत्रों में सवर्ण मतदाता चुनाव परिणामों को प्रभावित करते रहे हैं। संभावना व्यक्त की जा रही है कि अन्य राजनीतिक दल भी अब ऐसा करेंगे।

बिहार में सवर्णो में आमतौर पर चार जातियों ब्राह्मण, भूमिहार, राजपूत और कायस्थ को माना जाता है। बिहार में इनकी कुल आबादी करीब 19 प्रतिशत के करीब मानी जाती है। पहले इन मतदाताओं का वोट कांग्रेस को जाता रहा है, जो फिलहाल भाजपा की ओर ‘शिफ्ट’ हुआ है। जदयू और भाजपा में गठबंधन है। सवर्ण मतदाता भाजपा के वोटबैंक माने जाते हैं। ऐसी स्थिति में सवर्ण मतदाताओं का लाभ भाजपा को मिलता रहा है। जदयू अब इसी पर नजर गड़ाए हुए हैं।

जदयू के एक नेता भी कहते हैं कि बिहार में प्रारंभ से ही जातीय आधार पर ही चुनाव के परिणाम सामने आते रहे हैं। ऐसे में हर पार्टी जातीय समीकरण को ध्यान में रखते हुए अपनी रणनीति तैयार करती है।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleसामान्य ज्ञान – ऐसा क्यों है? माइक्रोवेव में खाना इतनी जल्दी क्यों गर्म हो जाता है?
Next articleNubia ने Asus को हराया, 18GB रैम के साथ दुनिया का पहला स्मार्टफोन लॉन्च
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here