बुध प्रदोष व्रत 2020: आर्थिक सुधार और संपन्नता के लिए आज करें बुध प्रदोष व्रत

0

हिंदू धर्म में बुध प्रदोष व्रत का विशेष महत्व होता हैं वही हर माह के दोनों पक्षों की त्रयोदशी तिथि को शिव की विशेष पूजा का पर्व प्रदोष मनाया जाता हैं। इस दिन प्रदोष व्रत किया जाता हैं इस बार प्रदोष व्रत 3 जून दिन बुधवार यानी की आज किया जा रहा हैं। प्रदोष व्रत भगवान शिव और माता पार्वती की पूजा करने के लिए शुभ दिन माना जाता हैं इस व्रत के बारे में ऐसी मान्यता हैं कि जो भी पूरी श्रद्धा से इस व्रत को करता हैं और पूरे विधि विधान से शिव पार्वती की पूजा करता हैं उस पर शिव का आशीर्वाद हमेशा बना रहता हैं बुधवार को ये व्रत होने से इसे बुध प्रदोष कहा जा रहा हैं। आज हम आपको प्रदोष व्रत से होने वाले फायदें के बारे में बताने जा रहे हैं तो आइए जानते हैं।

वही स्कंदपुराण में इस व्रत के बारे में ज़िक्र करते हुए लिखा गया हैं कि इस व्रत को किसी भी उम्र का मनुष्य कर सकता हैं और इस व्रत को दो तरह से रखे जाने का प्रावधान हैं कुछ लोग इस व्रत को सूर्योदय के साथ ही शुरू कर के सूर्यास्त तक रखते हैं और शाम को शिव की पूजा के बाद व्रत खोल लते हैं तो वही कुछ लोग इस दिन 24 घंटे व्रत रहते हैं और रात को जागरण करके शिव पूजन करते हैं और अगले दिन व्रत खोलते हैं। वही बुधवार को त्रयोदशी तिथि होने से बुध प्रदोष का संयोग बनता हैं इस व्रत को करने से आर्थि​क स्थिति में सुधार होता हैं और जीवन में संपन्नता बढ़ जाती हैं। शिवपुराण के अनुसार प्रदोष व्रत करने से सभी इच्छाएं पूर्ण होती हैं वार के अनुसार अलग अलग दिन त्रयोदशी तिथि का संयोग बनने पर उसके फल का महत्व भी बदल जाता हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here