मध्य प्रदेश में आयकर छापों से सियासत गरमाई

0
92

आयकर विभाग की टीमों ने रविवार तड़के मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के ओएसडी (विशेष ड्यूटी पर तैनात अधिकारी) प्रवीण कक्कड़ तथा अन्य लोगों के भोपाल और इंदौर स्थित निजी आवास और अन्य ठिकानों पर छापा पड़ने से राज्य की सियासत गरमा गई है।

कांग्रेस जहां इसे भाजपा की बौखलाहट बता रही है, वहीं भाजपा इसे आयकर विभाग की नियमित कार्रवाई करार देते हुए कांग्रेस पर ‘तबादला उद्योग’ से वसूली गई रकम के सामने आने की बात कह रही है।

प्रदेश कांग्रेस मीडिया विभाग की अध्यक्ष शोभा ओझा ने आयकर विभाग के छापों को लेकर कहा कि मुख्यमंत्री कमलनाथ के करीबियों पर की गई आयकर विभाग की कार्रवाई तीन राज्यों में मिली करारी हार से उत्पन्न प्रधानमंत्री मोदी की बौखलाहट का नतीजा है और चुनाव से ठीक पहले कांग्रेस की छवि खराब करने और राजनीतिक दबाव बनाने का यह असफल प्रयास है।

शोभा ने आगे कहा कि प्रधानमंत्री मोदी द्वारा अपने विरोधियों को दबाने की कोशिशों की शिकार अकेली कांग्रेस पार्टी नहीं है, पूरे देश में सभी विपक्षी दल ऐसी द्वेषपूर्ण कार्यवाहियों का शिकार हो रहे हैं। चाहे वह तेलुगू देशम पार्टी हो, तृणमूल कांग्रेस हो, डीएमके हो, कुमारस्वामी हों या कोई और, उन पर तानाशाह मोदी का कहर जारी है।

उन्होंने यह भी कहा कि यदि ये छापे राजनीतिक द्वेष से नहीं मारे जा रहे हैं तो फिर अमित शाह, जय शाह, येदियुरप्पा, शिवराज सिंह चौहान, रमन सिंह के घर छापे क्यों नहीं मारे जा रहे हैं? उनके नाम तो कई बड़े भ्रष्टाचारों में सामने आए हैं। यही भाजपा का दोहरा चरित्र है, जिसको पूरा देश देख रहा है और आने वाले चुनाव में करारा जवाब देगा।

वहीं भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने ट्वीट कर कहा, “मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ओएसडी के घर मिली ट्रांसफर उद्योग की काली कमाई से स्पष्ट हो गया है कि कांग्रेस चोर है और इस मामले में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की चुप्पी बताती है कि वह चोरों के सरदार हैं।”

इसी तरह भाजपा के पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने आयकर के छापों में करोड़ रुपये मिलने पर तंज सकते हुए कहा, “कमलनाथ की घोषणा कि 10 दिन में किसानों का कर्ज माफ, पर मैं लगातार गांव में किसानों के बीच जा रहा हूं तो पता चला कि किसी के खाते में भी दो लाख नहीं पहुंचे, नौजवानों का बेरोजगारी भत्ता रुपये 4000 भी उनको नहीं मिला, मैं अचंभित था कि आखिर यह सारा पैसा गया कहां, आज समझ आया कि आखिर पैसा जा कहां रहा था।”

राजधानी भोपाल, इंदौर सहित अन्य स्थानों पर मुख्यमंत्री के ओएसडी, एक गैर सरकारी संगठन के संचालक अश्विनी शर्मा के यहां आयकर विभाग ने रविवार को दबिश दी। इसके बाद सियासी हलचल बढ़ गई है।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस


SHARE
Previous articleIPL 2019: जीत के बाद कप्तान कार्तिक ने किया प्लान का खुलासा, सुनील नरेन को लेकर भी कही बड़ी बात
Next articleरॉबर्ट वाड्रा ने कहा- कांग्रेस के लिए देशभर में करूंगा प्रचार, तो स्मृति ईरानी बोलीं- लोग अपनी जमीन बचाएं
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here