33 करोड़ भारतीय छात्रों के लिए शिक्षा की पहुंच सुनिश्चित करेंगे : पोखरियाल

0

केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने गुरुवार को कहा कि सरकार कोविड -19 महामारी के दौरान 33 करोड़ भारतीय छात्रों तक शिक्षा की पहुंच सुनिश्चित करने के लिए प्रतिबद्ध है। केंद्रीय मंत्री निशंक ने कहा, ‘एक-राष्ट्र, एक-डिजिटल मंच के माध्यम सेए हम गारंटी देंगे कि हर छात्र सीखने से जुड़ा हुआ हो, हर एक को कनेक्टिविटी और पहुंच का आश्वासन दे रहे है। ‘

पोखरियाल ने ओ. पी. जिंदल ग्लोबल यूनिवर्सिटी और इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट फॉर हायर एजुकेशन रिसर्च एंड कैपेसिटी बिल्डिंग द्वारा आयोजित एक वैश्विक आभासी सम्मेलन का उद्घाटन करने के बाद यह टिप्पणी की।

‘रीईमेजनिंग एंड ट्रांसफॉमिर्ंग द यूनिवर्सिटी’ नामक इस सम्मेलन 15 देशों के 80 से अधिक विचारशील नेताओं के साथ लाया गया जिसमें 15 विषयगत पैनल चर्चा, चार मुख्य भाषण और दो विशेष संवाद शामिल हैं, जिसमें एक विशेष पैनल भी शामिल है।

इस अवसर पर केंद्रीय शिक्षा मंत्री ने कोविड-19 चुनौती को अवसरों में बदलने के लिए भारतीय विश्वविद्यालयों के प्रयासों की सराहना की।

डिजिटल लनिर्ंग, ऑनलाइन शिक्षा और कई डिजिटल प्लेटफार्मों के विकास पर सी. राज कुमारए वाइस चांसलर, ओपी जिंदल ग्लोबल यूनिवर्सिटी ने कहा, ‘इस संकट को दूर करने के लिए उच्च शिक्षा संस्थानों को सक्षम किया गया है। राष्ट्रीय शिक्षा नीति (एनईपी) 2020 भारतीय छात्रों की शैक्षिक आकांक्षाओं के लिए एक बेहतरीन योजना साबित होगी, जो दुनिया में सबसे अच्छा मुकाबला करेगी। यह सम्मेलन दुनिया भर के विश्वविद्यालयों की चिंताओं और मुद्दों का सामना करने और विश्वविद्यालयों, राष्ट्रों और दुनिया के एक मजबूत भविष्य के लिए आगे का रास्ता तलाशने के लिए एक सामूहिक प्रयास के निर्माण के लिए हमारी ²ष्टि की उन्नति है।’

‘दुनिया भर के वैज्ञानिकों और शोधकतार्ओं के काम के माध्यम से इस संकट को दूर करने में हमारी मदद करने के मामले में न केवल विश्वविद्यालयों और उच्च शिक्षा संस्थानों की एक अद्वितीय भूमिका है, बल्कि अर्थव्यवस्था, राजनीति और समाज के निर्माण के लिए, लचीलापन बनाते हुए हमारे अपने संस्थानों में पढ़ रहे युवा।’

इस सम्मेलन की मेजबानी जेजीयू द्वारा की गई थी और आईआईएचईडी ने वैश्विक शिक्षा नेटवर्क . एसोसिएशन ऑफ कॉमनवेल्थ यूनिवर्सिटीज, एसोसिएशन ऑफ इंडियन यूनिवर्सिटीज, कोइम्ब्रा ग्रुप ऑफ ब्राजीलियन यूनिवर्सिटीज, स्टार स्कॉलर्स नेटवर्क और कतर फाउंडेशनके साथ साझेदारी की थी। ।

विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) के अध्यक्ष डी. पी. सिंह ने कहा, ‘शैक्षिक परि²श्य एक उल्लेखनीय परिवर्तन की प्रक्रिया में है और हम सभी के लिए शिक्षा की पहुंच में सुधार के लिए तकनीकी समाधान बना सकते हैं।’

एसोसिएशन ऑफ इंडियन यूनिवर्सिटीज के महासचिव पंकज मित्तल ने कहा ‘महामारी ने हमें सीखने के लिए अभिनव समाधानों पर ध्यान दिया है। हमने ऑनलाइन शिक्षण को मजबूत करने के लिए संसाधन बनाए हैं और एक अकादमिक बैंक ऑफ क्रेडिट्स (एबीसी) स्थापित करेंगे जहां एक छात्र को अब अपनी योग्यता प्राप्त करने के लिए सिर्फ एक संस्थान से जुड़े रहने की आवश्यकता नहीं है।’

न्यूज सत्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleआमिर, नवाजुद्दीन हैं ताहिर राज के प्रेरणास्त्रोत
Next articleकर्नाटक के कोडागु में भारी बारिश के बाद भूस्खलन में 5 लापता
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here