लॉकडाउन में लाखों लोगों को खाना देने वाले NGO से कल बात करेंगे पीएम मोदी

0

कोरोना महामारी के प्रसार को रोकने के लिए केंद्र सरकार ने देशभर में 25 मार्च से लॉकडाउन लागू किया था। इस बीच तमाम गतिविधियां ठप हो गई थी। लोग घरों में कैद हो गये लेकिन सरकार ने लॉकडाउऩ को अब अनलॉक कर दिया है। इससे ठप हुई औद्योगिक गतिविधियां फिर से शुरू हो गई है। अब लोगों को फिर से रोजगार मिलने लगा है।

लॉकडाउन के बीच कई सामाजिक संगठनों ने अपने प्रयासों के साथ प्रशासन का सहयोग किया और गरीबों को भोजना भोजन उपलब्ध कराने में सक्रिय रहे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कल वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए लॉकडाउन के दौरान खाद्य वितरण और अन्य सहायता करने वाले संगठनों के प्रयासों को लेकर बात करेंगे। ये संगठन सामाजिक, धार्मिक, शिक्षा, स्वास्थ्य और अन्य पेशेवर सेक्टर में काम करते हैं। लॉकडाउन में वाराणसी में  100 से ज्यादा संगठनों ने जिला प्रशासन के फूड सेल के साथ खुद के प्रयासों के जरिए 20 लाख भोजन पैकेट वितरित किए थे। इस बीच 2 लाख सूखे राशन किट वितरित किए थे। हालांकि, मास्क, सैनिटाइज सहित कई जरूरी चीजों को लेकर एनजीओ आगे आए थे।

इससे पहले मोदी कैबिनेट की बैठक हुई। इस मीटिंग में कैबिनेट ने तीन प्रस्तावों को मंजूरी प्रदान की है। इस बैठख में कृषि इन्फ्रास्ट्रक्टर के विकास के लिए एक लाख करोड़ रुपये के प्रस्ताव को पास किया है। कर्मचारियों और कारोबारियों के लिए 24 फीसदी ईपीएफ मदद को केबिनेट ने मंजूरी दी है। इसके अलावा गरीब कल्याण अन्न योजना को नवंबर तक के लिए बढ़ाया गया है।

Read More…
Coronavirus India: पिछले 24 घंटे में मिले 22 हजार से ज्यादा मरीज, 482 लोगों की मौत
Monsoon Updates: गुजरात में भारी बारिश से जलमग्न हुए कई इलाके, पानी से जनजीवन बेहाल

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here