PM Modi के जन्मदिन पर मप्र को सुपोषित प्रदेश बनाने का संकल्प

0

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 70वें जन्मदिन के मौके पर मध्य प्रदेश में आठ लाख बच्चों को दूध वितरण आरंभ करने के साथ राज्यव्यापी पोषण महोत्सव की शुरुआत हुई। इस अवसर पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने राज्य को सुपोषित प्रदेश बनाने का संकल्प लिया। मुख्यमंत्री चौहान ने गुरुवार को मंत्रालय में गरीब कल्याण सप्ताह का शुभारंभ राज्यव्यापी पोषण महोत्सव से किया। पोषण महोत्सव 97 हजार से अधिक आंगनवाड़ी केन्द्रों पर एक साथ मनाया गया। इसके अलावा प्रदेश की ग्राम पंचायत मुख्यालयों, नगरीय निकायों के वार्डो, जनपद पंचायतों और जिला मुख्यालयों पर भी कार्यक्रम आयोजित किए गए। वर्चुअल आधार पर आयोजित कार्यक्रम विभिन्न संचार माध्यमों से प्रसारित किया गया। वहीं सोशल मीडिया के विभिन्न प्लेटफॉर्म के जरिए लोग जुड़े।

मुख्यमंत्री ने इस मौके पर लाडली लक्ष्मी योजना की तीन लाख 56 हजार 443 बालिकाओं को 75 करोड़ 55 लाख रुपये की राशि सिंगल क्लिक से उनके खाते में अंतरित की। मुख्यमंत्री ने सुपोषित प्रदेश के निर्माण के लिये राज्य स्तरीय पोषण प्रबंधन रणनीति जारी करते हुए प्रदेशवासियों को पोषण संकल्प दिलाया। इस अवसर पर 601 नवीन आंगनवाड़ी भवनों का लोकार्पण भी किया गया।

मुख्यमंत्री चौहान ने प्रधानमंत्री मोदी को जन्मदिन की प्रदेशवासियों की तरफ से बधाई देते हुए कहा, “प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी गौरवशाली, शक्तिशाली और वैभवशाली भारत के निर्माता हैं। उन्होंने जो भी कार्य किया वह पूरी तन्मयता और दूरदृष्टि के साथ किया। देश की सीमाओं की रक्षा हो, आत्मनिर्भर भारत के निर्माण की संकल्पना हो या गरीबों के कल्याण और विकास के लिए चलाई जाने वाली योजनाएं हो, यह सभी प्रधानमंत्री मोदी की दक्ष नेतृत्व क्षमता को परिलक्षित करने वाली है।”

मुख्यमंत्री चौहान ने पोषण प्रबंधन रणनीति का जिक्र करते हुए कहा, “हमारा मानना है कि कुपोषण मुक्ति की लड़ाई में समाज का साथ जरूरी है। इसके लिए हर गांव में अन्नपूर्णा पंचायत बनाई जाएगी। जिसमें पंचायत, नगरीय निकाय, स्व-सहायता समूह, स्कूल प्रबंधन समिति, वन प्रबंधन समिति सहित अन्य लोगों को जोड़ा जाएगा। पोषण और स्वास्थ्य सेवाओं की गुणवत्ता पर निगरानी रखना अन्नपूर्णा पंचायत का काम होगा।”

मुख्यमंत्री चौहान ने प्रत्येक गांव में पोषण मटके रखने की अपील करते हुए कहा, “आंगनवाड़ी में रखे जाने वाले इन मटकों में सक्षम परिवारों के सहयोग से फल, सब्जी, अनाज आदि एकत्र किया जाएगा। कमजोर बच्चों एवं महिलाओं के पोषण स्तर को बढ़ाने के लिए इसका उपयोग किया जाएगा।”

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleDiabetes diet:डायबिटीज को कंट्रोल में रखने के लिए, आप करें डाइट में पालक का सेवन
Next articleRealme 7i स्मार्टफोन में दिया गया है क्वाड कैमरा सेटअप, जानें स्पेसिफिकेशन
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here