पितृपक्ष 2019: जानिए पितृपक्ष का किस्मत से कनेक्शन, किन चीजों से करना है परहेज

0
58

पितृपक्ष को हिंदू धर्म में खास महत्व दिया जाता हैं, वही जब तक किसी मनुष्य की मृत्यु के बाद उसका जन्म नहीं हो जाता हैं वह सूक्ष्म लोक में रहता हैं ऐसा भी माना जाता हैं कि इन पितरों का आशीर्वाद सूक्ष्मलोक से परिवार जनों को मिलता रहता हैं वही पितृपक्ष में पितृ धरती पर आकर अपने लोगो पर ध्यान देते हैं और आशीर्वाद देकर उनकी समस्याएं भी दूर करते हैं। वही पितृपक्ष में लोग अपने पितरों को याद करते हैं और उनकी याद में दान धर्म का पालन करते हैं, इस बार पितृपख 13 सितंबर यानी की आज से 28 सितंबर तक रहेगा। जानिए पितृपक्ष में किस तरह कार्यों का करें पालन—
पितृपक्ष में अपने पितरों को नियमित रूप से जल अर्पित करना चाहिएं वही यह जल दक्षिण दिशा की ओर मुंह करके दोपहर के समय पर दिया जाता हैं जल में काला तिल मिलाया जाता हैं और हाथ में कुश रखा जाता हैं। वही जिस दिन पूर्वज का देहांत की तिथि होती हैं, उसी दिन अन्न और वस्त्र का दान भी किया जाता हैं उसी दिन किसी निर्धन को भोजन भी कराया जाता हैं इसके बाद पितृपक्ष के कार्य समाप्त हो जाते हैं।

जानिए कौन कर सकता हैं पितरों का श्राद्ध—
घर का वरिष्ठ पुरुष सदस्य नित्य तर्पण कर सकता हैं। वही उसके अभाव में घर का कोई भी पुरुष सदस्य कर सकता हैं। पौत्र और नाती को भी तर्पण और श्राद्ध का अधिकार होता हैं वर्तमान में स्त्रियां भी तर्पण और श्राद्ध कर सकती हैं सिर्फ इतना ध्यान रखें कि पितृपक्ष की सावधानियों का जरूर पालन करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here