पेवल्र्ड ने 3 महीने में दिलवाया 10 करोड़ रुपये का ऋण, जानिए इसके बारे में !

0
31

वित्तीय सेवाएं प्रदान करने वाले डिजिटल वन-स्टॉप शॉप पेवल्र्ड ने पिछले तीन महीनों में एनबीएफसी एवं अन्य डिजिटल ऋण प्लेटफॉर्म्स जैसे कैपिटल फ्लोट, हैप्पी लोन और ई-पे के साथ साझेदारी में लघु एवं छोटे उद्यमों को 10 करोड़ रुपये का ऋण दिलावाया है।

कंपनी ने शनिवार को एक बयान में कहा, “लम्बे समय से भारतीय एसएमई सेक्टर के पास ऋण के सीमित विकल्प उपलब्ध थे, ऋण सुविधाओं की उपलब्धता व्यापक नहीं थी। हालांकि पिछले कुछ सालों के दौरान डिजिटल ऋण एवं फिनटेक स्टार्ट-अप्स में तेजी से बदलाव आया है। तकनीक के इस्तेमाल के चलते ऋण आवेदन प्रक्रिया पूरी तरह से दस्तावेज रहित हो गई है।”

बयान में कहा गया, “पेवल्र्ड छोटे, लघु एवं मध्यम उद्यमों तथा रीटेलरों को आसान ऋण सुविधाएं एवं अल्पकालिक नकदप्रवाह उपलब्ध करा रहा है। ऋण का औसत आकार 30,000 से 50,000 रुपये तक है जबकि अंतिम उपयोगकर्ता के लिए औसत ऋण राशि 10,000 रुपये से कम भी है।”

पेवल्र्ड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी प्रवीण धबाई ने बताया, “जीवन को आसान बनाने के हमारे दृष्टिकोण के मद्देनजर हमने कैपिटल फ्लोट, हैप्पी लोन्स और पे-लेटर के साथ साझेदारी की है ताकि हमारे नेटवर्क में मौजूद रीटेलर अपने कारोबार को बढ़ा सकें। हमने अपने मौजूदा एवं आगामी साझेदारों के सहयोग से वित्त वर्ष 2018-19 तक 1 लाख 55 हजार रीटेलरों को 250 करोड़ रु का ऋण दिलवाने का लक्ष्य तय किया है।”

बयान में कहा गया कि इस साझेदारी के माध्यम से पेवल्र्ड छोटे रीटेलरों को ऋण आसानी से ऋण उपलब्ध करा रहा है।

ग्रामीण भारत में रहने वाले लोग आज भी लम्बे पेपर वर्क एवं लोन के बारे में कम समझ के चलते ऋण सेवाओं से वंचित हैं। ऐसे में वे स्थानीय साहूकारों से ऋण लेकर ऊंची ब्याज दरें चुकाते हैं। कैपिटल फ्लोट, हैप्पी लोन और ई-लेटर के सहयोग से पेवल्र्ड इन ग्रामीणों के लिए ऋण प्रक्रिया को बेहद आसान और सुलभ बनाएगा।

पेवल्र्ड समाज के उस वर्ग तक अपनी सेवाएं पहुंचाने के लिए प्रयासरत है जो आज भी वित्तीय सेवाओं के नेटवर्क से बाहर है और पारम्परिक ऋण सुविधाओं की जटिलता के चलते ऋण सेवाओं से वंचित है।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here