‘उड़ान’ के तहत 21वां हवाई अड्डा पठानकोट एयरपोर्ट हुआ शुरू

0
519

दिल्ली से पठानकोट तक की पहली उड़ान का शुभारंभ गुरुवार को नई दिल्ली स्थित आईजीआई एयरपोर्ट के टर्मिनल 3 में आयोजित एक समारोह में वाणिज्य एवं उद्योग और नागरिक उड्डयन मंत्री सुरेश प्रभु ने किया। इसके साथ ही अब उड़ान (उड़े देश का आम नागरिक) – आरसीएस (क्षेत्रीय कनेक्टिविटी योजना) के तहत 21वें हवाई अड्डे के रूप में पठानकोट एयरपोर्ट पर परिचालन शुरू हो गया है। भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण (एएआई) ‘उड़ान’ की क्रियान्वयनकारी एजेंसी है।

एयर इंडिया के पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी एलायंस एयर ने एटीआर विमान के साथ आज दिल्ली-पठानकोट रूट पर परिचालन शुरू किया। दिल्ली से पठानकोट तक की उड़ान का संचालन सोमवार, मंगलवार और गुरुवार को होगा। यह उड़ान दिल्ली से प्रात: 0955 बजे रवाना होगी और प्रात: 1130 बजे पठानकोट पहुंचेगी। पठानकोट से अपनी वापसी के दौरान यह उड़ान 1150 बजे रवाना होगी और 1335 बजे दिल्ली पहुंचेगी। इस उड़ान के शुभारंभ के साथ ही इन दोनों शहरों के बीच सफर में लगने वाला समय काफी घट जाएगा।

यह ‘उड़ान’ के तहत एलायंस एयर द्वारा संचालित 19वां रूट है। इस योजना का शुभारंभ प्रधानमंत्री द्वारा 27 अप्रैल, 2017 को किया गया था। 27 अप्रैल, 2017 को ‘उड़ान’ के तहत प्रथम उड़ान का संचालन एलायंस एयर द्वारा शिमला-दिल्ली रूट पर किया गया था।

एलायंस एयर क्षेत्रीय कनेक्टिविटी में अग्रणी रही है और वह वर्तमान में 49 गंतव्यों के नेटवर्क का परिचालन करती है। एलायंस एयर विभिन्न क्षेत्रीय गंतव्यों को आपस में जोड़ने के लिए नए रूटों पर निरंतर फोकस करती रही है। इस एयरलाइन को ‘उड़ान-2’ के तहत 18 नए रूट आवंटित किए गए हैं जिन पर इस वर्ष नई उड़ानों का संचालन क्रमिक रूप से शुरू किया जा रहा है। इसके फलस्वरूप भारत के हवाई मैप पर अब कई नए गंतव्य दिखने लगे हैं।

एयर इंडिया के साथ अपने कोडशेयर के जरिए एलायंस एयर देश के भीतर न केवल क्षेत्रीय कनेक्टिविटी सुलभ कराती है, बल्कि देश-विदेश में एयर इंडिया के नेटवर्क पर क्षेत्रीय यात्रियों को निर्बाध कनेक्टिविटी की सुविधा भी प्रदान करती है।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस


SHARE
Previous articleट्रेवल के इन फायदों को जानकार आप भी निकल पड़ेगें किसी नए सफर पर
Next articleजाने कैसे रंग हमारे भाग्य को अपने वश में रखते हैं
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here