एक कम्पलीट बैटसमैन-विकेटकीपर पैकेज बनकर उभरे Panth

0

टेस्ट क्रिकेट में बड़े शॉट खेलना भारतीय विकेटकीपर बल्लेबाज ऋषभ पंत के लिए अब आम बात हो गई है। शुक्रवार को भी उन्होंने जेम्स एंडरसन की जिस गेंद पर स्वीप शॉट खेलकर उसे बाउंड्री के पार भेजा, उसकी हर कोई तारीफ कर रहा है।

आस्ट्रेलिया में जनवरी में सीरीज विनिंग पारियां खेलने वाले पंत ने शुक्रवार को भी इंग्लैंड के साथ जारी चौथे और अंतिम टेस्ट मैच के दूसरे दिन 118 गेंदों पर 101 रनों की शतकीय पारी खेली। इस पूरी सीरीज के दौरान पंत विकेट के पीछे भी अच्छा प्रदर्शन किया है।

भारतीय सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा ने शुक्रवार को कहा, “वह हमारे लिए अच्छा काम कर रहे हैं। उनकी अधिक तैयारी है। मुझे लगता है कि वह धोनी के नक्शेकदम पर हैं।”

पूर्व भारतीय विकेटकीपर बल्लेबाज किरण मोरे ने कहा है कि पंत उनके लिए सभी फॉर्मेट में एक मैच विजेता खिलाड़ी हैं।

मोरे ने आईएएनएस से कहा, “मैंने हमेशा से यह कहा है कि जब तक आप किसी को भी गहराई में नहीं डालेंगे, वह कैसे सीखेगा? पंत के साथ भी यही हुआ। वह अब तीन साल से भारतीय टीम के साथ हैं। भारत में उनका अब तक नहीं खेलना एक बहुत दुखद बात थी। मुझे नहीं पता कि इसका कारण क्या था। वह युवा, अनुभवहीन थे। जब आप भारत में खेलते हैं तो अनुभवहीनता मदद नहीं करती है। लेकिन आपको अनुभव के अवसर देने होंगे। जाहिर है, उस अवधि में उन्होंने कड़ी मेहनत की है।”

उन्होंने कहा, “भारतीय सतहों पर, एक विकेटकीपर हमेशा खेल में होता है। अगर आप अच्छा करते हैं, तो आपकी तारीफ होती है। यदि आप एक फ्लैट पिच पर एक कैच छोड़ते हैं, तो यह ध्यान देने योग्य है। लेकिन उस मददगार पिच पर भले ही आप मिस भी करते हैं तो लोग पिच को दोष देते हैं न कि आपके विकेट कीपिंग स्किल को। इसलिए, यह थोड़ा आसान है।”

ओपनर रोहित ने पंत की बल्लेबाजी शैली का समर्थन किया, जोकि आक्रामक और शुरू से ही अपरिवर्तित रहा है।

उन्होंने कहा, “अपनी पारी के पहले हाफ में, वह अच्छे दिखे। अपने डिफेंस पर भरोसा जताते हुए और फिर एक बार जब हम 200 पर पहुंच गए, तो वह सिर्फ गेंदबाजों पर शॉट लेना चाहते थे, जो ठीक है। आपको अपनी टीम में उन खिलाड़ियों की जरूरत है जो गेंदबाजों पर शॉट लेने से नहीं डरते।”

पंत ने अपना अर्धशतक 82 गेंदों पर पूरा किया जबकि अगले 50 रन उन्होंने केवल 33 गेंदों पर ही बना डाला।

मोरे ने कहा, “वह अधिक खतरनाक होने वाले हैं और अधिक परिपक्व होने वाले हैं। वह हमेशा मेरे लिए एक मैच विजेता रहे हैं। वह अपनी क्षमता और आक्रामकता के साथ और अधिक खतरनाक होंगे। जितना अधिक अनुभव उन्हें क्रिकेट की दुनिया में मिलता है, वह उतना ही खतरनाक होंगे।”

न्यूज सत्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleAhmedabad Test : भारत ने बनाए 365 रन, 160 रन की लीड
Next articleXiaomi Redmi Note 10S और Note 10 5G को भारत में पोको फोन के रूप में सूचीबद्ध किया गया है
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here