हस्तरेखा: सोने पर सुहागा जैसा है हथेली पर इन रेखाओं का योग

0

हर कोई अपने आने वाले जीवन और भविष्य के बारे में जानना चाहता हैं इसके लिए वह हस्तरेखा ज्योतिष की सहायता लेता हैं हस्तरेखा विज्ञान बहुत ही सूक्ष्म और वृहद विज्ञान माना जाता हैं हाथों की रेखाओं को समझते हुए भविष्य का आकलन करना आसान काम नहीं होता हैं हस्तरेखा में भाग्य के साथ सूर्य रेखा को बहुत ही शुभ माना गया हैं एकसाथ दोनों रेखाओं की अच्छी स्थिति बहुत ही भाग्यशाली लोगों के हाथों में देखने को मिलता हैं अगर इन दोनों रेखाओं के साथ सूर्य रेखा भी अच्छी हो तो फिर यह सोने पर सुहागा जैसी स्थिति हैं अच्छी सूर्य रेखा होने से मनुष्य का जीवन समृद्धि से भरा हुआ होता हैं ऐसे लोग हर क्षेत्र में सफलता हासिल करते हैं मगर इनमें खास बात यह भी हैं कि यह रेखा कहां से और कैसे निकल रही हैं तो आज हम आपको ज्योतिष शास्त्र की सहायता से इन्हीं रेखाओं के बारे में बताने जा रहे हैं तो आइए जानते हैं।

ज्योतिष के मुताबिक अगर सूर्य रेखा मणिबंध या उसके पास से शुरू होकर भाग्य रेखा के निकट समानान्तर अपने स्थान की ओर जा रही हैं तो यह सबसे अच्छी स्थिति मानी जाती हैं जिस मनुष्य के हाथों में ऐसी रेखा होती हैं वह बहुत ही भाग्यशाली और सफलता प्राप्त करने वाला होता हैं ऐसे मनुष्य को किसी भी काम में निराशा हाथ नहीं लगती हैं अगर चंद्ररेखा से सूर्यरेखा का आरंभ होता हैं तो ऐसे लोगों का भाग्य दूसरों की मदद से चमकता हैं कोई मित्र या संबंधी ऐसे लोगों की सहायता करते हैं और वह सफलता की सीढ़ियां चढ़ने लग जाते हैं। वही चंद्र क्षेत्र से आरंभ होकर अनामिका तक पहुंचने वाली गहरी सूर्यरेखा भी महत्वपूर्ण मानी जाती हैं ऐसे मनुष्य का जीवन अनेक घटनाओं से भरा होता हैं अधिकांश मामलों में इस तरह के लोगों का जीवन संदेहपूर्ण रहता हैं ऐसे लोगों के जीवन में बहुत से बदलाव भी आते हैं। वही अगर ये रेखा चंद्र स्थान से निकलकर भाग्य रेखा के समानान्तर जाए तो भी भविष्य अच्छा रहता हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here