हाथ का ये हिस्सा बतलाता है आपकी किस्मत में संतान सुख है या नहीं

0

जयपुर।  सभी इंसानों की किस्मत एक समान नहीं होती, किसी की किस्मत में सभी सुख आसानी से मिलते हैं तो किसी की किस्मत में कष्ट ही कष्ट लिखें होते हैं। ऐसे में कुछ ऐसे भी लोग होते हैं जिनकी किस्मत में संतान सुख नहीं होता।

आज हम इस लेख में हाथ की रेखा के आधार पर किस्मत में संतान सुख है या नहीं इस बारे में बता रहें हैं। हस्त रेखा हमारे भविष्य के कई सारे राज आसानी से खोलती है। ऐसे में हाथ की रेखा में एक रेखा संतान रेखा से भी संबंध रखती है। ऐसे में उस रेखा को देख इस बात का अंदाजा लगया जा सकता है, कि किस्मत में संतान सुख है या नहीं।

हाथ में संतान रेखाएं ठीक विवाह रेखा के ऊपर होती हैं, यहां पर बुध पर्वत यानि छोटी अंगुली के ठीक नीचे के भाग में विवाह रेखा होती है। इस स्थान पर स्थित खड़ी रेखा संतान रेखा कहलाती हैं। संतान प्राप्ति के योगों को कई अन्य रेखाएं भी प्रभावित करती हैं जैसे मणिबंध रेखा, अंगुठे के नीचे पाई जाने वाली छोटी रेखा आदि।

  • अगर किसी के हाथ में संतान रेखा स्पष्ट हैं तो इसका अर्थ है कि होने वाली संतान अच्छी और माता पिता का सम्मान करने वाली होगी।
  • अगर संतान रेखाअस्पष्ट और टूटी रेखा है तो बच्चें के स्वास्थ्य को प्रभावित करती हैं।
  • इसके अलावा संतान योग को मणिबंध रेखाएं भी प्रभावित करती हैं। यदि पहली मणिबंध रेखा का झुकाव कलाई की तरफ है और वह हथेली में प्रविष्ट होती दिखे तो इसका अर्थ है कि संतान प्राप्ति में दुख होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here