हस्तरेखा ज्योतिष: ऐसी हस्तरेखा वाले होते है स्वार्थी और कंजूस

0

हर मनुष्य के जीवन में हस्तरेखा ज्योतिष और ज्योतिषशास्त्र का विशेष महत्व होता हैं वही ऐसा भी कहा जाता हंं कि सूर्य पर्वत मनुष्य के जीवन को व्यापक स्तर पर प्रभावित करता हैं वही प्रकाशमान सूर्य सभी जीव जगत का आधार होता हैं वही कुंडली में सूर्य की स्थिति पूरे जीवन को प्रभावति करती हैं। इसी तरह हथेली में सूर्य पर्वत मनुष्य के जीवन के बारे में बहुत कुछ इशारा करता हैं हथेली में अनामिका उंगली के मूल में सूर्य का स्थान होता हैं इस क्षेत्र का उभार जितना अधिक होगा, सूर्य भी उतना ही प्रभावकारी माना जाता हैं, आज हम आपको हस्तरेखा से जुड़ी जानकारी प्रदान करने जा रहे हैं तो आइए जानते हैं।

वही सूर्य पर्वत का उभार अच्छा और स्पष्ट होने के साथ सरल सूर्य रेखा हो तो मनुष्य श्रेष्ठ प्रशासक, पुलिसकर्मी और सफल उद्योगपति होता हैं अगर ये पर्वत अधिक उभार वाला होता हैं और रेखा कटी या टूटी हो तो मनुष्य अभिमानी, स्वार्थी, क्रूर, कंजूस और अविवेकी होता हैं। वही अगर हथेली में सूर्य पर्वत शनि की ओर झुका होता हैं तो मनुष्य जज और सफल अधिवक्ता होता हैं इसी तरह अगर सूर्य पर्वत दूषित हो जाता हैं तो मनुष्य अपराधी हो जाता हैं। सूर्य और शुक्र पर्वत अगर उभार वाले होते हैं तो विपरीत लिंग के प्रति शीघ्र और स्थायी प्रभाव डालने वाला, धनवान, परोपकारी, सफल प्रशासक, सौंदर्य और विलासिताप्रिय होता हैं सूर्य पर्वत पर जाली होने से गर्व करने वाला, मगर कुटिल स्वभाव का मनुष्य होता हैं ऐसा मनुष्य किसी पर भी विश्वास नहीं करता हैं तारे का निशान होने पर धनहानि होती हैं प्रसिद्धि अप्रत्याशित रूप से मिलती हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here