हस्तरेखा: हथेली पर हो ऐसा निशान तो कुछ नहीं बिगाड़ पाता दुश्मन

0

हर मनुष्य के जीवन में ज्योतिषशास्त्र और हस्तरेखा का विशेष महत्व होता हैं वही ऐसा भी कहा जाता हैं कि हथेली में रेखाओं पर समय के साथ निशान बनते और खत्म होते रहते हैं इन निशानों का समय के साथ अपना अर्थ भी होता हैं हथेली में बना कोई भी निशान मनुष्य के भविष्य की ओर इशारा करता हैं। ज्योतिष के मुताबिक हथेली में ऐसे भी निशान बनते हैं जो विपदा के समय मनुष्य की रक्षा करते हैं ये निशान व्यक्तिगत और वैवाहिक जीवन में परेशानियों की ओर संकेत करते हैं और उन पर विजय प्राप्ति के बारे में भी बताते हैं तो आज हम आपको इन्हीं चिन्हों के बारे में बताने जा रहे हैं तो आइए जानते हैं।

आपको बता दें कि मनुष्य की हथेली में मंगल पर्वत दो जगह स्थिति होता हैं एक तो जीवन रेखा के ठीक नीचे अंगूठे के पास वाले स्थान पर होता हैं दूसरा ह्रदय रेखा के ठीक नीचे मस्तिष्क रेखा के पास वाले जगह पर होता हैं मंगल पर्वत की दबी हुई स्थिति साहस की कमी को दिखाती हैं मगर इस पर्वत पर चतुष्कोण होने से साहस की कमी होने पर भी सफल होने की संभावराएं बढ़ जाती हैं और शत्रुओं पर विजय प्राप्त होती हैं इसी तरह हथेली में विवाह रेखा सबसे छोटी उंगली के नीचे बुध पर्वत पर स्थित होती हैं अगर विवाह रेखा सीधी न हो और नीचे की ओर झुक रही हो या ​आकार में गोल हो रही हो तो यह स्थिति जीवनसाथी के स्वास्थ्य के नजरिं से शुभ नहीं माना जाता हैं। मगर विवाह रेखा में यह दोष हो और उस पर चतुष्कोण बने हो तो जीवनसाथी के जीवन से जुड़ी परेशानियों में राहत प्रदान होती हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here