पाकिस्तान : अजहर अली ने वनडे क्रिकेट से संन्यास लिया

0
77

पाकिस्तान क्रिकेट टीम के बल्लेबाज व पूर्व कप्तान अजहर अली ने टेस्ट करियर पर ध्यान देने के लिए वनडे क्रिकेट से संन्यास लेने की घोषणा की है। अजहर ने गुरुवार को यहां एक संवाददाता सम्मेलन में एकदिवसीय प्रारूप को अलविदा कहने की घोषणा की।

वेबसाइट ईएसपीएनक्रिकइंफो ने अजहर के हवाले से लिखा है, “मैंने यह फैसला अचानक नहीं लिया है। मैं इस बारे में काफी दिनों से सोच रहा था। यह टेस्ट पर ध्यान देने का सही समय है। पाकिस्तान के पास वनडे के कई शानदार खिलाड़ी हैं।”

अजहर पाकिस्तान की वनडे टीम के नियमित सदस्य नहीं थे। वह लंबे समय से टीम से बाहर चल रहे थे। उन्होंने अपना आखिरी वनडे इसी साल जनवरी में न्यूजीलैंड के खिलाफ खेला था। इस सीरीज के बाद उन्हें टीम से बाहर कर दिया गया था। वह कभी भी पाकिस्तान की टी-20 टीम में शामिल नहीं हो सके।

उन्होंने कहा, “मैं किसी तरह का बोझ लेकर संन्यास नहीं ले रहा हूं। यह मेरा निजी फैसला है। मैं पूरी ऊर्जा के साथ टेस्ट पर ध्यान देना चाहता हूं और अपने करियर रिकार्ड को सुधारना चाहता हूं। मुझे किसी तरह का पछतावा नहीं है क्योंकि मैंने हमेशा पूरी कोशिश की है।”

अजहर पाकिस्तान टीम की कप्तानी भी कर चुके हैं। पूर्व कप्तान ने कहा, “एक पूर्व कप्तान के तौर पर मैं टीम को आने वाले अहम सीजन के लिए शुभकामनाएं देता हूं। आगे विश्व कप भी है। मैं पूरी तरह से सरफराज अहमद का समर्थन करता हूं। वह टीम का अच्छे से नेतृत्व कर रहे हैं।”

अजहर ने पाकिस्तान के लिए 53 वनडे मैच खेले जिसमें उन्होंने 36.09 की औसत से 1845 रन बनाए। वनडे में उनके नाम तीन शतक और 12 अर्धशतक हैं।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस


SHARE
Previous articleचार कैमरे वाला Lenovo Z5 Pro स्मार्टफोन किया लाँच, जानिये इसकी कीमत
Next articleएक बार फिर बाजार में वापसी करेगी 90 के दशक की ये बाइक, काफी कुछ होगा अलग
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here