पाक ने Hafiz Saeed and Salahuddin से कहा, घाटी में आतंकियों को भेजो

0

भारत ने नियंत्रण रेखा (एलओसी) पर पाकिस्तान की ओर से की जाने वाली घुसपैठ पर काफी हद तक लगाम कसने में सफलता हासिल की है। इस बीच पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी इंटर-सर्विसेज इंटेलिजेंस (आईएसआई) ने लश्कर-ए-तैयबा के प्रमुख हाफिज सईद और हिज्बुल मुजाहिदीन के प्रमुख सैयद सलाहुद्दीन के साथ बैठक कर आतंकवादियों को अशांति फैलाने के लिए कश्मीर घाटी में धकेलने को कहा है। एक शीर्ष सरकारी सूत्र ने सोमवार को यह जानकारी दी।

सलाहुद्दीन और सईद अमेरिकी विदेश विभाग की ओर से विशेष रूप से घोषित ‘वैश्विक आतंकवादी’ हैं।

सीमा पार आतंकियों की घुसपैठ को अंजाम देने के लिए पाकिस्तान की आईएसआई ने चार अक्टूबर, 2020 को कोटली में सात अक्टूबर, 2020 को निकिल में आतंकी संगठनों के प्रमुखों के साथ एक उच्चस्तरीय बैठक की है।

बैठक में सैयद सलाहुद्दीन और हाफिज सईद के साथ ही सभी लॉन्च पैड के कमांडरों, विभिन्न तंजीमों के गाइड और अन्य प्रमुख आतंकियों ने भाग लिया।

सूत्र ने कहा कि प्रत्येक तंजीम को 20 लाख रुपये आवंटित किए गए हैं और इसके साथ ही अगर उनके द्वारा सफल संचालन किया जाता है तो 30 लाख रुपये अतिरिक्त देने का वादा भी किया गया है।

पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) में नियंत्रण रेखा के पार विभिन्न लॉन्च पैड्स में लगभग 270 से 300 आतंकवादी डेरा डाले हुए हैं। सूत्रों ने आगे बताया कि वे घाटी में सर्दियों में पड़ने वाली भारी बर्फ से पहले घुसपैठ की कोशिश कर रहे हैं।

यह भी पाया गया कि जम्मू एवं कश्मीर में पाकिस्तान के साथ नियंत्रण रेखा पर घुसपैठ काफी हद तक रुक गई है। नियंत्रण रेखा कश्मीर के क्षेत्र में भारत और पाकिस्तान के बीच एक वास्तविक सीमा है। पिछले साल 130 घुसपैठ हुई थी और इस साल अब तक 27 की मौत हो चुकी है।

इसके अलावा नियंत्रण रेखा के पास कुछ लॉन्च पैड पर बॉर्डर एक्शन टीम (बैट) की कार्रवाई सक्रिय हो गई है।

सूत्र ने कहा, “80 आतंकवादियों के एक समूह को किरेन सेक्टर के सामने अठमुकाम, दुधनियाल और ठंडापानी क्षेत्रों के लॉन्च पैड पर देखा गया है।”

जैश-ए-मोहम्मद और लश्कर-ए-तैयबा के साथ नीलम घाटी के पास तंगधार सेक्टर के सामने 10 आतंकवादियों का एक समूह घुसपैठ की योजना बना रहा है और उन्होंने बैट कार्रवाई की भी योजना बनाई है। इसके अलावा, 40 आतंकवादियों के एक समूह को पुंछ क्षेत्र के विपरीत पाया गया है, जो सुजियन क्षेत्र में जैश-ए-मोहम्मद और अल बदर के समूह के पाकिस्तान के गांवों में डेरा डाले हुए हैं।

सूत्रों ने यह भी बताया कि 20 आतंकवादियों के एक समूह को मदारपुर और नटार इलाकों में कृष्णाघाटी के सामने देखा गया है, जहां वे डेरा डाले हुए हैं।

इसके अलावा 35 आतंकवादियों के एक अन्य समूह को घुसपैठ के लिए भीमबर गली शिविर के सामने देखा गया।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

 

SHARE
Previous articleSatyameva Jayate 2: जॉन अब्राहम लखनऊ की सड़कों पर करेंगे फिल्म सत्यमेव जयते 2 की शूटिंग
Next articleDelhi Police के कांस्टेबल थान सिंह लगाते हैं गरीब बच्चों की पाठशाला
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here