भूमि- अधिग्रहण बिल में संशोधन के विरोध में झारखंड बंद

0
414

जयपुर। झारखंड में विपक्षी दलों  ने गुरूवार को प्रदेश बंद का एलान किया था, ये बंद भूमि- अधिग्रहण बिल 2013 में लाये जा रहे संशोधन के विरोध में था। झारखंड मुक्ति मोर्चा के 12 घंटे के पहले ही बुलाए गए इस बंद को कांग्रेस, जेवीएम, आरजेडी और वाम दलों ने अपना समर्थन दिया। इस बंद का असर राजधानी रांची, जमशेदपुर, धनबाद, गिरिडीह, बोकारो, रामगढ़, चतरा, पाकुड़ सहित राज्य के विभिन्न हिस्सों में देखा गया।

झारखंड के नेता प्रतिपक्ष और झामुमो विधायक हेमंत सोरेन ने भी बंद में भाग लिया सोरेन ने अपने समर्थको के रांची में यूनिवर्सिटी गेट से अल्बर्ट एक्का चौक तक मार्च किया। जहां पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया। गिरफ़्तारी से पहले सोरेन ने रघुवर सरकार पर निशाना साधते हुए कहा की भाजपा सरकार की नीतियां जनविरोधी है, सोरेन ने इस बंद को सफल बताया।

बंद के दौरान कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ताओं ने कई जगह टायर जलाकर जाम किया और रघुवर सरकार के खिलाफ नारे भी लगाए, रांची में बंद समर्थको ने रेलवे स्टेशन आकर ट्रेन को भी बल पूर्वक रोकने की कोशिश की जिसके बाद सुरक्षाबलों और पुलिस ने उन्हें वहां से हटाया।

इस बंद को लेकर भाजपा का कहना था की ये लोग निगेटिव पॉलिटिक्स कर रहे है। इस बंद को लेकर प्रशासन पूरी तैयारी में दिखा, बताया जा रहा है कि बंद को देखते हुए 5 हजार से ज्यादा सुरक्षाबलों को लगाया गया था। इसके अलावा रैप की दो कंपनियां, स्टेट रैपिड एक्शन फोर्स की 6 कंपनियां और होमगार्ड के 31 सौ से अधिक जवानों के साथ-साथ टीयर गैस, राइट कंट्रोल यूनिट की भी तैनाती की गई थी।

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here