एक बार फिर लोगों को परिवार का महत्व समाझाएंगे सूरज बड़जात्या, हम चार में होगी ये खास बातें

0
114

बॉलीवुड में आये दिन किसी ना किसी फिल्म कि खबरें आती ही रहती है लेकिन ऐसे मे यदि दर्शक जिस डायरेक्ट  की फिल्म का हर साल इंतजार करते है वो है सूरज बड्जात्या जी हां साथ खाने वाले और साथ पूजा करने वाले परिवार कभी टूटते नहीं हैं जैसे विचार लेकर अपनी फिल्मों का निर्माण करने वाले सूरज एक बार फिर से अपनी फिल्म में इस कहावत को जन्म देंगे।ये फिल्म हम चार है जिसकी तैयारी कई दिनो  से चल रही थी अब लीजिए फिल्म रिलीज होने के लिए तैयारा है ऐसे में सूरज बड़जात्या ने अपनी इंटरव्यू में इस फिल्म के बारे में कई बातें की।

इस फिल्म के जरिए सूरज आखिरकार किस संदेश को दर्शको तक पहुंचाना चाहते है के जबाव में सूरज ने कहा- आज के युवा अपने सपने पूरा करने, नौकरी और पढ़ाई के लिए घर से दूर चले जाते हैं। फिर उनके घर और परिवार के सदस्य उनके दोस्त ही बन जाते हैं। त्यौहार और अपना बर्थ डे तक आज के युवा अपने दोस्तों संग मनाते हैं क्योंकि उस टाइम उनके पास उनका परिवार वही हो जाते हैं। 

इस फिल्म से कुछ मिलती जुलती दोस्तो की कहानी पर आधारित फिल्म दोस्ती साल 1964 में रिलीज हुई थी आपको बता दें फिल्म के बाद सूरज हम चार लेकर आ रहे है दोनों ही फिल्मो में अंतर करते हुए सूरज ने कहा- आज के युवा अपने सपने पूरा करने, नौकरी और पढ़ाई के लिए घर से दूर चले जाते हैं। फिर उनके घर और परिवार के सदस्य उनके दोस्त ही बन जाते हैं।  त्योहार और अपना बर्थ डे तक आज के युवा अपने दोस्तों संग मनाते हैं क्योंकि उस टाइम उनके पास उनका परिवार वही हो जाते हैं। 

क्योंकि ये फिल्म दोस्ती पर आधारित है ऐसे में अपनी फिल्म के बारे में सूरज ने कहा- दोस्ती का वैसे तो कोई मतलब नहीं होता, दोस्ती एक रिश्ता है जिसे केवल विश्वास और प्यार के साथ निभाया जा सकता है। 

इसी के साथ क्योंकि आजकल सिनेमा में नया दौर शुरु हो चुका है हर तरह की फिल्मे बनने लगी है वही सूरज परिवार, संस्कृति की फिल्मों को नया प्लेटफॉर्म देते है ऐसे में सूरज ने कहा कि- दर्शकों हो हमेशा ऐसी कहानी चाहिए होती है जिसमें परिवार हो,संस्कृति हो। आज के युवा भी ऐसी फिल्में खूब पसंद करते हैं जिसे देखने के लिए वह परिवार के साथ जा सकते हों। ये सिलसिला आगे भी जारी रहेगा। फिल्म 14 फरवरी को वेलेंटाइन डे पर रिलीज की जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here