इस दिन खुलता है नरक का दरवाजा, बदला लेने आती हैं आत्माएं…

0
46

आज तक हमने नरक के बारे में केवल कहानियों और हमारे बुजुर्गो से ही सुना था । मगर आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि कब नरक का दरवाजा खुलता है और आत्माएं बदला लेने के लिए भी आती है। तो जाइए तैयार ।

बताया जा रहा है कि ‘द घोस्ट फेस्टिवल’ को ‘हंगरी घोस्ट फेस्टिवल’ के नाम से भी जाना जाता है। यह बौद्ध और टोइस्टि धर्म में प्रचलन में है। यह फेस्टीवल चीन में होता है जो कि सातवें महीने के 15वीं रात को होता है। बता दे कि वहां पर इस महीने को भतो का महीना भी कहा जाता है और इसी दिन खुलता है नरक का दरवाजा ।

यहां पर ऐसा माना जाता है कि इस दिन नरक का दरवाजा खुलता है और आत्माएं बदला लेने के लिए आती है। आपको बता दें कि इस त्यौहार को मकसद इतना होता है कि इसके माध्यम से अशांत आत्माओं को शांत किया जा सके ।

बौद्ध और टोइस्टि धर्म में ऐसी आत्माओं को अच्छा नहीं माना गया है। बताया गया है कि इस प्रकार की आत्माएं केवल रात के समय ही अधिक सक्रिय होती है और सांप, कीट, पक्षी, लोमड़ी, भेड़िए एवं शेर का रूप लेती हैं इसके अलावा कई बार ऐसी बुरी आत्माएं सुदंर महिला या पुरूष का रूप लेकर भी अपना बदला पूरा करती है।

आपको बता दें कि वर्तमान में यह फेस्टिवल चीन, जापान, सिंगापुर, मलेशिया, थाइलैंड, श्रीलंका, लाओस, कंबोडिया, वियतनाम, ताइवान और इंडोनेशिया समेत कई एशियाई देशों में मनाया जाता है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here