100 दिन पूरे होने पर Farmers ने काली पट्टी बांध टोल प्लाजा पर शुरू किया प्रदर्शन

0

दिल्ली की सीमाओं पर किसानों के विरोध प्रदर्शन शुरू होने के 100 दिन हो चुके हैं। शनिवार को दिल्ली व दिल्ली की सीमाओं के विभिन्न विरोध स्थलों को जोड़ने वाले केएमपी एक्सप्रेसवे पर 5 घंटे की नाकाबंदी करने का किसानों ने आह्वान किया है। जिसके तहत कुंडली की ओर जाने वाले डासना टोल पर किसानों ने अपना विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया है। हालांकि किसानों के आने से पहले पुलिस की तरफ से इस टोल को एहतियातन बंद किया गया था। वहीं दूसरी ओर राहगीरों को किसी तरह की कोई समस्या न हो इसके लिए पुलिस ने रूट को डायवर्ट कर दिया है।

इसके तहत राहगीर मसूरी थाने से आगे गंगानहर के किनारे होते हुए मुरादनगर बागपत शामली जा सकते है। यदि मेरठ जाना है तो हापुड़ होते हुए जा सकते है।

गाजियाबाद एसपी ट्रैफिक रामनन्द कुशवाहा ने आईएएनएस को बताया, “कंट्रोल रूम से सूचना मिली कि कुंडली की तरफ किसानों ने बंद किया है, जिसके तहत हमने कुंडली की ओर जाने वाले रास्ते को डासना टोल से ही बंद किया है ताकि आगे राहगीर न फसें।”

गाजीपुर बॉर्डर से कुछ किसान टोल पहुंचे है, वहीं सरकार के खिलाफ अपना विरोध दर्ज करा रहे हैं। किसानों के मुताबिक यह पूरी तरह से शांतिपूर्ण है।

न्यूज सत्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleSkin Care: किशोर लड़कियों के लिए त्वचा की देखभाल के लिए कुछ सुझाव
Next articleLumiford GoMusic BT12 ब्लूटूथ स्पीकर 2199 रुपये में लॉन्च हुआ
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here