मोटापा , बीपी डायबिटीज़ की परेशानी को बिलकुल ही छु कर देगा मात्र यह एक फल

मोटापा आज के समय की उस बीमारी का नाम है जिससे की लगभग 80 % लोग जुंझ रहे हैं । आज कल का खानपान और जिस तरह की जीवन शेली आज की हमारी  हो चली हैं 

0
71

जयपुर । मोटापा आज के समय की उस बीमारी का नाम है जिससे की लगभग 80 % लोग जुंझ रहे हैं । आज कल का खानपान और जिस तरह की जीवन शेली आज की हमारी  हो चली हैं  उसके चलते ज़्यादातर लोग आज मोटापे के शिकार हो रहे हैं । वह न चाहते हुए भी खुद की अच्छी सेहत के लिए समय नही निकाल पा  रहे हैं ।

इसी मोटापे के चलते और भी अकि सारी बीमारियाँ हमको घेरे जा रही है । आज हम बात कर रहे हैं इस परेशानी को दूर करने और इसके साथ ही होने वाली और भी कई सारी बीमारियों को दूर करने के बारे में । आइए जानते हैं कैसे एक मात्र फल का सेवन करने से आप इन सभी परेशानी से छुटकारा पा सकते हैं ।

कटहल का वानस्पतिक नाम आर्टोकार्पस हेटेरोफिल्लस है। इसमें कई महत्वपूर्ण कार्बोहाइड्रेट के अलावा कई विटामिन भी पाए जाते हैं। कटहल का इस्तेमाल कई बीमारियों में किया जाता है। आइए जानते हैं इसके फायदे भी

कटहल की पत्तियों की राख अल्सर के इलाज के लिए बहुत उपयोगी होती है। इसकी ताजा हरी पत्तियों को साफ धोकर सुखा लें और उसका चूर्ण तैयार कर लें। पेट के अल्सर में इस चूर्ण को खाने से काफी आराम मिलता है।

मुंह में छाले होने पर कटहल की कच्ची पत्तियों को चबाकर थूक देना चाहिए। यह छालों को ठीक कर देता है।

पके हुए कटहल के गूदे को अच्छी तरह से मैश करके पानी में उबाल लें। इस मिश्रण को ठंडा कर एक गिलास पीने से जबरदस्त स्फूर्ति आती है। यही मिश्रण यदि अपच के शिकार रोगी को दिया जाए तो उसे फायदा मिलता है।

डायबिटीज में कटहल की पत्तियों के रस का सेवन काफी फायदेमंद रहता है। यह रस हाई ब्लडप्रेशर के रोगियों के लिए भी उत्तम है।

इसके छिलकों से निकलने वाला दूध यदि गांठनुमा सूजन, घाव और कटे-फटे अंगों पर लगाया जाए तो आराम मिलता है। इसके दूध से जोड़ों पर मालिश करने से जोड़ों के दर्द में आराम मिलता है।

कटहल के पे़ड की ताजी कोमल पत्तियों को कूट कर छोटी-छोटी गोली बना लें। इससे गले के रोगों में फायदा होता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here