अब लार , पसीना और खून बताएँगे तनाव की बीमारी के बारे में

तनाव ऐसी बीमारी का नाम है जो अच्छे खासे व्यक्ति को मानसिक रोगी बना सकती है । आज कल की जैसी हमारी लाइफ़स्टायल हो चली है उसके चलते लोगों के  जीवन में तनाव बढ़ता ही जा रहा है

0
48
Broken down young lonely girl with depression; Shutterstock ID 374678440; PO: today.com

जयपुर । तनाव ऐसी बीमारी का नाम है जो अच्छे खासे व्यक्ति को मानसिक रोगी बना सकती है । आज कल की जैसी हमारी लाइफ़स्टायल हो चली है उसके चलते लोगों के  जीवन में तनाव बढ़ता ही जा रहा है । लोग काम को ले कर इतना परेशान रहते हैं की उनको न खाने का होश होता है न ही सोने का यही कारण सबसे ज्यादा तनाव का कारण बनता है । यही ही तनाव आगे चल कर अवसाद का कारण बनता है ।

आज हम आपसे बात कर रहे हैं तनाव का कारण पता करने के बारे में । लोगों को तनाव का पता करने में काफी परेशानी होती है , कई कई लोग तो यह माननाएको भी तैयार नही होते हैं की उनको तनाव की परेशानी है भी । ज़्यादातर इस बीमारी का पता साइकाइट्रिस के पास जा कर ही चल पाता है और लोग उसको पागलों का डॉक्टर मानते हैं इसलिए उनके पास जाना पसंद नही करते ।

अमेरिका के सिनसिनाटी यूनिवर्सिटी के अनुसंधानकर्ताओं को उम्मीद है कि इस नई जांच के जरिए तनाव से पीड़ित मरीज घर पर ही इस उपकरण का इस्तेमाल कर सकेंगे। विश्वविद्यालय के प्रफेसर एंड्रीयू स्टेकल ने कहा, हालांकि यह आपको सभी सूचना नहीं देगा लेकिन आपको बताएगा कि क्या आपको किसी डॉक्टर की जरूरत है।

दरअसल, वैज्ञानिकों ने एक ऐसा उपकरण विकसित किया है जो खून, पसीना, मूत्र या लार में मौजूद तनाव को हॉर्मोन की पराबैंगनी किरणों के जरिए माप लेगा। हालांकि, अमेरिकन केमिकल सोसाइटी सेंसर जर्नल में इस उपकरण के बारे में बताया गया है कि यह लैब में होने वाली खून की जांच की जगह नहीं लेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here